• No results found

2007 भारतीयररज़ियबैंक, जनताकेदहतमेंयहआिश्यकसमझकर, औरइसबातसेसिंतुष्टहोकरकक देिकेदहतमेंऋण प्रणाली को विननयशमत करने के शलए, बैंक को समथय बनाने के प्रयोजन से नीचे ददए गए वििेकपूणय मानदण्डों से सिंबधितननदेि जारी करना जरूरीहै, भारतीय ररज़ियबैंक अधिननयम का 2) की

N/A
N/A
Protected

Academic year: 2022

Share "2007 भारतीयररज़ियबैंक, जनताकेदहतमेंयहआिश्यकसमझकर, औरइसबातसेसिंतुष्टहोकरकक देिकेदहतमेंऋण प्रणाली को विननयशमत करने के शलए, बैंक को समथय बनाने के प्रयोजन से नीचे ददए गए वििेकपूणय मानदण्डों से सिंबधितननदेि जारी करना जरूरीहै, भारतीय ररज़ियबैंक अधिननयम का 2) की"

Copied!
88
0
0
Show more ( Page)

Full text

(1)

विषयसूची

पैिानं: विििण

1 सिंक्षक्षप्तनाम, ननदेिोंकाप्रारिंभऔरउनकीप्रयोज्यता

2 पररभाषा

3 आयननिायरण 4 ननिेिोंसेप्राप्तआय 5 लेिािंकनमानक 6 ननिेिोंकालेिािंकन

7 मािंग/सूचनाऋणसेसिंबिंधितनीनतकीआिश्यकता

8 पररसिंपल्त्तिगीकरण 9 प्राििानीकरणअपेक्षा

10 तुलनपत्रमेंप्रकटीकरण

11 एनबीएफसीद्िारालेिा-परीक्षासशमनतकागठन

12 लेिािषय

13 तुलनपत्रकीअनुसूची

14 सरकारीप्रनतभूनतयोंमेंलेनदेन

15 सािंविधिकलेिापरीक्षककाप्रमाणपत्रबैंककोप्रस्तुतकरना

16 पूिंजीपयायप्ततासिंबिंिीअपेक्षा

17 एनबीएफसीकेअपनेिल्जयतिेयरोंपरऋण

18 जनताकी जमाराशिकीचुकौतीकरनेमेंअसफल एनबीएफसीकोऋणदेनेऔरननिेिकरने

परप्रनतबिंि

19 भूशमऔरभिनतथाअनुद्धृत (अनकोटेड) िेयरोंमेंननिेिपरप्रनतबिंि

20 ऋण/ननिेिकासिंकेंद्रण 21 छमाहीवििरणीप्रस्तुतकरना

22 पूिंजीबाजारमेंएक्सपोजर

23 इिंफ्रास्रक्चर ऋणसेसिंबिंधितमानदण्ड 23ए ऋण पुनरयचना से सिंबिंधित ननयम

23बी दीर्य कालीन इिंफ्रास्रक्चर और कोर के शलए लचीली स्रक्चररिंग

24 छूट

25 व्याख्या

26 ननरसनऔरछूट अनुबंध

(2)

भाितीयरिज़िणबैंक गैि-बैंककंगपयणिेक्षणविभाग

केंद्रीयकायाणलय सेंटि-1, विश्िव्यापािकेंद्र

कफपिेड, कोलाबा

मुंबई-400 005

अधधसूचनासं. डीएनबीएस.192/डीजी (िीएल)-2007 ददनांक 22 फिििी, 2007 भारतीयररज़ियबैंक, जनताकेदहतमेंयहआिश्यकसमझकर, औरइसबातसेसिंतुष्टहोकरकक देिकेदहतमेंऋण प्रणाली को विननयशमत करने के शलए, बैंक को समथय बनाने के प्रयोजन से नीचे ददए गए वििेकपूणय मानदण्डों से

सिंबधितननदेि जारी करना जरूरीहै, भारतीय ररज़ियबैंक अधिननयम, 1934 (1934 का 2) की िारा 45 ञक द्िारा

प्रदत्त िल्क्तयों और इसकी ओर से प्राप्त समस्त िल्क्तयों का प्रयोग करते हुए तथा 31 जनिरी, 1998 की

अधिसूचना सिं. डीएफसी.119/डीजी (एसपीटी)/98 में ददए गए गैर-बैंककिंग वित्तीय किंपनी वििेकपूणय मानदिंड (ररज़िय बैंक) ननदेि 1998 का अधिक्रमण करते हुए साियजननकजमाराशियािं स्िीकार/िारण करने िाली प्रत्येक गैर-बैंककिंग वित्तीयकिंपनी (अिशिष्टगैर-बैंककिंगकिंपनीकोछोड़कर) तथाप्रत्येकअिशिष्टगैर-बैंककिंग किंपनीको इसकेपश्चात ननददयष्टननदेिदेताहै।

संक्षक्षप्तनाम, ननदेिोंकाप्रािंभऔिउनकीप्रयोज्यता

1. (1) इन ननदेिों को "गैर-बैककिंगवित्तीय (जमाराशिस्िीकार यािारण) किंपनी वििेकपूणयमानदण्ड (ररज़ियबैंक) ननदेि, 2007" केनामसेजानाजाएगा।

(2) येननदेितत्कालप्रभािसेलागूहेंगे।

(3) (i) इनननदेिोंकेप्राििान, ननम्नशलखितपरलागूहोंगे-

(ए) कोई गैर-बैंककिंगवित्तीय किंपनी ककसीपारस्पररक दहतलाभ वित्तीयकिंपनी औरपारस्पररक दहतलाभकिंपननयों कोछोड़कर, गैर-बैंककिंगवित्तीयकिंपनीजनताकी जमाराशिस्िीकाययता (ररज़िय बैंक) ननदेि, 1998 मेंयथापररभावषतऔरजनतासे/ जमाराशियािंस्िीकार/िाररतकरतीहों; (बी) अिशिष्टगैर-बिंककिंगकिंपनी (ररज़ियबैंक) ननदेि, 1987 मेंयथापररभावषतकोईअिशिष्टगैर- बैंककिंगकिंपनी।

(3)

(ii) ये ननदेि किंपनी अधिननयम, 1956 (1956 का 1) की िारा 617 में यथा पररभावषत उस गैर-बैंककिंग वित्तीयकिंपनीपरलागूनहीिंहोंगेजोएकसरकारीकिंपनीहै औरसाियजननकजमाराशिस्िीकार/िारणकरती

है।

परिभाषा

2. (1) इनननदेिोंकेप्रयोजनकेशलए, जबतकसिंदभयसेअन्यथाअपेक्षक्षतनहोोः

(i) "विर्दटत मूलय(break-up value)" का अथय है ईल्क्िटी पूिंजी तथा आरक्षक्षत ननधि, ल्जसे अमूतय पररसिंपल्त्तयों एििं पुनमूयलयािंककत आरक्षक्षत ननधि से /के रूप में र्टाया गया है, ि ननिेशिती

(इनिेस्टी) किंपनीकेईल्क्िटीिेयरोंकीसिंख्या सेविभाल्जतककयागयाहै;

(ii) "िहन लागत (carrying cost)" का अथय है पररसिंपल्त्तयों का बही मूलय और उसपर उपधचत ब्याजककिंतुजोप्राप्तनहुआहो;

(iii) "ितयमानननिेि (current investment)" का अथयहै ऐसाननिेिल्जसेतुरिंतभुनायाजा सकेऔर ननिेिकरनेकीतारीिसेएकिषयसेअधिक अिधितकिाररतनककएजानेकेशलएहो; (iv) "सिंददग्िपररसिंपल्त्तयों " काअथयहै -

(ए) मीयादीऋण, अथिा

(बी) पट्टापररसिंपल्त्त, अथिा

(सी) ककरायािरीदपररसिंपल्त्त, अथिा

(डी) कोईअन्यपररसिंपल्त्त,

जो 18 महीनेसेअधिकअिधितकअिमानकपररसिंपल्त्तबनीरहीहो;

1“बितेंककइसििंडमेंविननददयष्टअिधि “18 मदहनोंसेअधिक” को 31 माचय 2016 कोसमापत वित्तीयिषय केशलए “16 मदहनोंसेअधिक” मानाजाए, 31 माचय 2017 कोसमाप्तवित्तीयिषयकेशलए “14 मदहनों से

अधिक” मानाजाएतथा 31 माचय 2018 कोसमाप्तवित्तीयिषयऔरइसकेबादकेशलए “12 मदहनोंसे

अधिक” मानाजाए।

(v) "अजयन मूलय" का अथय है ईल्क्िटी िेयरों का िह मूलय ल्जसकी गणना करने के बाद करोत्तर लाभों केऔसततथा अधिमानी लाभािंि को र्टातेहुए तथा असािारणएििं गैर-आितीमदोंको

समायोल्जतकरतेहुएतत्कालपूियितीतीनिषोंकेशलएकीगईहोऔरउसेननिेशितीकिंपनीके

1 27 माचय 2015 की अधिसूचना सिं: 11 द्िारा िाशमल ककया गया।

(4)

ईल्क्िटी िेयरों की सिंख्या से विभाल्जतककया गयाहो तथा ल्जसे ननम्नशलखित दर पर पूिंजीकृत ककयागयाहोोः

(ए) प्रमुितोःविननमायणकिंपनीकेमामलेमें, आठप्रनतित (बी) प्रमुितोःव्यापारकिंपनीकेमामलेमें, दसप्रनतित; और

(सी) एनबीएफसी-सदहतककसीअन्यकिंपनीकेमामलेमें, बारहप्रनतित;

दटप्पणी : यददननिेशितीकिंपनीर्ाटेिालीकिंपनीहै तोअजयनमूलयिून्यपरशलयाजाएगा; (vi) "उधचतमूलय"काअथयहै अजयनमूलयऔरविर्दटतमूलयकाऔसत;

(vii) "सिंशमश्र ऋण(hybrid debt)" का अथय है ऐसा पूिंजीगत शलित ल्जसमें ईल्क्िटी तथा ऋण की

कनतपयवििेषताएिंहों;

(viii) 2उिारदाता (यथा एनबीएफसी) द्िाराककसीउिारकताय कोइन्फ्रास् रक् चरकेननम् नशलखितउप- क्षेत्रों में एक् सपोजर के शलए प्रदान की जाने िाली ऋण सुवििा ‘इन्फ्रास् रक् चर ऋण’ के रूप में

मान् य होगीोः

क्र. सं.

श्रेणी ‘इन्फ्रास् रक् चिउप-क्षेत्र

1. पररिहन i सड़कतथापुल ii पत्तन

iii अिंतरदेिीयजलमागय iv हिाईअड्डा

v रेलिेरैक,सुरिंग,छोटेपुल,पुल

vi िहरी साियजननकपररिहन (िहरीसड़क पररिहन केमामले में रोशलिंगस टाक कोछोड़कर)

2. ऊजाय i. बबजलीउत् पादन ii. विद्युतपारेषण

iii. बबजलीवितरण

iv. तेलकीपाइपलाइनें

v. तेल/गैस/तरलीकृतप्राकृनतकगैस (एलएनजी) भिंडारणसुवििा

vi. गैसपाइपलाइनें

3. जलतथा

सफाई

i. ठोसअपशिष्ट प्रबिंिन ii. जलआपूनतयपाइपलाइनें

229 निम्बर 2013 की अधिसूचना सिं.गैबैंपवि.265/पीसीजीएम(एसएसिी)2013 द्िारा िाशमल ककया गया।

(5)

व् यिस् था

(सैनीटेिन)

iii. जलिोिनकारिाने

iv. सीिेजसिंग्रह,िोिनऔरननपटानप्रणाली

v. शसिंचाई (बािंि, नहर, तटबिंिनइत्यादद) vi. चक्रिातजलननकासीप्रणाली

vii स् लरीपाइपलाइनेंशसिंचाई (बािंि,नहर,तटबिंिनइत् यादद) चक्रिातजलननकासीप्रणाली

स् लरीपाइपलाइनें

4. दूरसिंचार i. दूरसिंचार (जड़नेटिकय) ii. दूरसिंचारटॉिर

iii. दूरसिंचारएििंटेलीकॉमसेिाएिं

5. सामाल्जक तथा

व् यािसानयक इन्फ्रास् रक् चर

i. िैक्षखणकसिंस् थाएिं (पूिंजीस् टॉक)

[

ii. अस् पताल (पूिंजीस् टॉक)6

iii. तीन-शसतारा या उच् च श्रेणी िगीकृत होटल जो 10 लाि या उससे अधिक

आबादीिालेिहरोंकेबाहरल्स्थतहैंl

iv. औद्योधगकपाकय,एसईजेड,पययटनसुवििाएिंतथाकृवषबाजार

[

v. उियरक (पूिंजीननिेि)

vi. िीतागार सदहत कृवष तथा बागिानी सिंबिंिी उत् पादों के शलए उत् पादनोत् तर भिंडारणइन्फ्रास् रक् चर

vii. टशमयनलबाजार

viii मृदापरीक्षणप्रयोगिालाएिं

ix प्रिीतनश्रृिंिला

x भारत के ककसी भी स्थान में तथा ककसी भी स्टॉर रेदटिंग के साथ रू

200 करोड़ से अधिक की पररयोजना लागत8 िाले प्रत्येक होटल

xi रू 300 करोड़ से अधिक की पररयोजना लागत8 िाले प्रत्येक कन्िेंिन सेंटर

नोट

1 पूिंजी ननष्कषय िाशमल हो

2 लोडडिंग/अनलोडडिंग जैसे टशमयनल, स्टेिन बबल्लडिंग के शलए सपोदटिंग टशमयनल इिंफ्रास्रक्चर िाशमल 3 क्रूड आयल को जमाकरने के शलए रणनीनत िाशमल ककया जाए

4 शसटी गैस वितरण तिंत्र को िाशमल ककया जाए

5 ब्रॉडबैंड/इिंटरनेट उपलब्ि कराने िाले केबल नेटिकय/ऑल्प्टक फाइबर को िाशमल ककया जाए 6 मेडडकल कॉलेज, पारा मेडडकल प्रशिक्षण सिंस्थान तथा डायगनॉशसस सेंर को िाशमल ककया

जाए।

7 फामय लेिल प्री कूशलिंग के शलए कोलड रूम सुवििा को िाशमल ककया जाए ताकक कृवष और

(6)

उससे सिंबिंद्ध उत्पाद मररन उत्पाद और मािंस आदद को बचाने के शलए रिा जा सके।

8 इस पररपत्र के जारी होने की तारीि से लागू प्रभािी और तीन िषों की समयािधि के शलए पात्र उपलब्ि उत्पाद, पात्र िुलक में भूशम िुलक और पट्टा िुलक िाशम हो ककिंतु ननमायण के दौरान का

ब्याज िाशमल ककया जाए।

(ix) "हाननिालीपररसिंपल्त्त"काअथयहैोः

(ए) ऐसी पररसिंपल्त्त ल्जसे एनबीएफसी द्िारा अथिा उसके आिंतररक या बाह्य लेिा-परीक्षकों द्िारा

अथिा एनबीएफसीकेननरीक्षणकेदौरानररज़ियबैंकद्िाराहाननिालीपररसिंपल्त्तकेरूपमेंउससीमातक पहचानागयाहैल्जससीमातकएनबीएफसीद्िाराबट्टेिातेनहीिंडालागयाहै; और

(बी) ऐसीपररसिंपल्त्तजोप्रनतभूनतमूलयमेंयातोक्षरणकेकारणअथिाप्रनतभूनतकीअनुपलब्िताअथिा

उिारकतायके िोिािड़ीपूणयकृत्य या चूककेकारण िसूलनहो पानेकीसिंभावितितरेसे (विपरीतरूपसे) प्रभावितहो;

(x) "दीर्ायिधिननिेि"काअथयहै ितयमानननिेिसेइतरननिेि;

(xi) "ननिल पररसिंपल्त्त मूलय" का अथयहै ककसीिास योजना के सिंबिंिमें सिंबिंधितम्युचुअल फिंड द्िारा र्ोवषत अद्यतनननिलपररसिंपल्त्तमूलय;

(xii) "ननिलबहीमूलय"काअथयहै :

(ए) ककरायािरीद पररसिंपल्त्तकेमामलेमें, अनतदेयोंतथाप्राप्यभािीककस्तोंकी कुलराशि, ल्जनमेंसे

अपररपक्िवित्त प्रभारोंकी रकमर्टाईगईहो तथाइन ननदेिोंकेपैराग्राफ 9(2)(i) केप्राििानोंकेअनुसार आगेऔरर्टाईगईहो;

(बी) पट्टाकृत पररसिंपल्त्त के मामले में, प्राप्य राशि के रूप में लेिाकृत पट्टे के अनतदेय ककरायों के

पूिंजीकृतअिंिकीकुलरकमऔरपट्टेकीपररसिंपल्त्तकामूलययाशसतबहीमूलयल्जसेपट्टासमायोजनिातेकी

रकममेंसमायोल्जतककयागयाहै।

3“(xiiए) ‘गैर बैंककिंग वित्तीयकिंपनी- फैक्टर अथायत भारतीय ररज़िय बैंक अधिननयम, 1934 की िारा 45झ के िण्ड (एफ) में पररभावषत गैर बैंककिंग वित्तीय किंपनी ल्जसका फैक्टररिंग कारोबार में वित्तीय पररसिंपल्त्तयािं कुल पररसिंपल्त्तयोंकाकम सेकम 75 प्रनतित होऔर फैक्टररिंगकारोबारसेउत्पन्न आयइसके सकलआयके

75 प्रनतित से कम नहो और ल्जसे फैक्टररिंग विननयमअधिननयम, 2011 की िारा 3 के उप िारा (1) के

तहतपिंजीकरणप्रमाणपत्रप्रदानककयागयाहै।

(xiii) अनजयकपररसिंपल्त्त’ (इनननदेिोंमें "एनपीए"नामसेसिंदशभयत) काअथयहैोः

314 शसतम्बर 2012 की अधिसूचना सिं.डीएनबीएस.250/सीजीएम(यूएस)2012 द्िारा जोडा गया

(7)

(ए) ऐसीपररसिंपल्त्तल्जसपरब्याजछहयाउससेअधिकमहीनेसेअनतदेयहो;

(बी) अदत्तब्याज-सदहतऐसामीयादीऋण, ल्जसकीककस्तछहयाउससेअधिकमहीनेसेबकायाहोअथिा

ल्जसपरब्याजकीरकमछहयाउससेअधिकमहीनेसेअनतदेयहो;

(सी) ऐसा मािंगअथिा सूचना ऋण, जो मािंगया सूचना कीतारीि से छह महीनेया उससेअधिकसमय से

अनतदेयहोअथिाल्जसपरब्याजकीरकमछहमहीनेयाउससेअधिकअिधिसेअनतदेयहो;

(डी) ऐसाबबलजोछहमहीनेयाउससेअधिकअिधिसेअनतदेयहो;

(ई) अलपािधि ऋण/अधग्रम के रूप में ‘अन्य चालू पररसिंपल्त्तयािं’ िीषय के अिंतगयत कजय से सिंबधित ब्याज अथिाप्राप्यराशिसेहोनेिालीआय, जोछहमहीनेयाउससेअधिकअिधिसेअनतदेयहो;

(एफ) पररसिंपल्त्तयोंकी बबक्रीया दीगईसेिाओिंकेशलए अथिाककएगएव्ययकी प्रनतपूनतयसेसिंबिंधितकोई बकाया, जोछहमहीनेयाउससेअधिकअिधिसेअनतदेयहो;

4“बितें कक इस ििंड के उप ििंड (ए) से (एफ) तक में विननददयष्ट अिधि “छ: माह तथा अधिक” को

31 माचय 2016 को समापत वित्तीय िषय के शलए “पािंच माह तथा अधिक” माना जाए, 31 माचय 2017 को समाप्त वित्तीय िषय के शलए “चार माह तथा अधिक” माना जाए तथा 31 माचय 2018 को समाप्त वित्तीय िषय और इसके बाद के शलए “ तीन माह और अधिक ” माना जाए।

(जी) पट्टाककरायाऔरककरायािरीदककस्त, जो 12 महीनेयाउससेअधिकअिधिसेअनतदेयहोगईहो;

5“बितें कक इस उप ििंड में विननददयष्ट अिधि “बारह माह तथा अधिक” को 31 माचय 2016 को

समापत वित्तीय िषय के शलए “नौ माह तथा अधिक” माना जाए, 31 माचय 2017 को समाप्त वित्तीय िषय के शलए “छ: माह तथा अधिक” माना जाए तथा 31 माचय 2018 को समाप्त वित्तीय

िषय और इसके बाद के शलए “ तीन माह और अधिक ” माना जाए।

(एच) ऋणों, अधग्रमों और अन्य ऋण सुवििाओिं के सिंबिंि में (िरीदे और भुनाए गए बबलों-सदहत), एक ही

उिारकताय/लाभाथीको उपलब्ि करायी गयी ऋणसुवििाओिं (उपधचत ब्याज-सदहत) के अिंतगयत िेष बकाया

राशिजबउक्तऋणसुवििाओिंमेंसेकोईएकअनजयकपररसिंपल्त्तबनजाए:

बितेपट्टाऔरककरायािरीदलेनदेनकेमामलेमें, एनबीएफसीऐसेप्रत्येकिातेकोउसकीिसूलील्स्थनत के

आिारपरिगीकृतकरें;

427 माचय 2015 की अधिसूचना सिं:011 द्िारा िाशमल ककया गया।

527 माचय 2015 की अधिसूचना सिं:011 द्िारा िाशमल ककया गया।

(8)

(xiv) "स्िाधिकृत ननधि" से तात्पयय है चुकता ईल्क्िटी पूिंजी, अधिमानी िेयर जो अननिाययतोः ईल्क्िटी में

पररितयनीय हों, मुक्त आरक्षक्षत ननधियािं, िेयर प्रीशमयम िाते में िेष और पूिंजीगत आरक्षक्षत ननधि जो

पररसिंपल्त्तके बबक्रीआगमों सेहोने िालेअधििेषको दिायतीहै, पररसिंपल्त्त केपुनमूयलयािंकनद्िारासृल्जत आरक्षक्षतननधियोंकोछोड़कर, सिंधचतहाननराशि, अमूतयपररसिंपल्त्तयोंकाबहीमूलयऔरआस्थधगतराजस्ि

व्ययकोयथार्टाकर, यददकोईहो;

(xv) "मानकपररसिंपल्त्त" काअथयऐसी पररसिंपल्त्तहै ल्जसकीचुकौतीया मूलरकमया ब्याजकेभुगतानमेंकोई चूक न हुई हो और ल्जसमें ककसी प्रकार की समस्या न हो और न ही उस कारोबार के सामान्य जोखिम से

अधिकजोखिमहो;

(xvi) "अिमानकपररसिंपल्त्त"काअथयहैोः

(ए) ऐसीपररसिंपल्त्तल्जसेअधिक-से-अधिक 18 महीनेकीअिधिकेशलएअनजयकपररसिंपल्त्तकेरूपमें

िगीकृतककयागयाहो;

6“बितें कक इस उप ििंड में विननददयष्ट अिधि “18 माह से अधिक नहीिं” को 31 माचय 2016 को

समापत वित्तीय िषय के शलए “16 माह से अधिक नहीिं” माना जाए, 31 माचय 2017 को समाप्त वित्तीय िषय के शलए “14 माह से अधिक नहीिं” माना जाए तथा 31 माचय 2018 को समाप्त वित्तीय

िषय और इसके बाद के शलए “12 माह से अधिक नहीिं” माना जाए।

(ि) ऐसी पररसिंपल्त्त ल्जसके ब्याज और/अथिा मूलिन से सिंबिंधित करार की ितों का पररचालन िुरू

होने के बाद पुनोः सौदाकृत अथिा पुनननयिायररत अथिा पुनसिंरचनाकृत ितों के अिंतगयत सिंतोषजनक ननष्पादन के एक िषय की समाल्प्त तक पुनोः सौदा ककया गया हो अथिा ितें पुनननयिायररत अथिा ितों की

पुनसिंरचनाकीगईहोोः

बिते अिमानक पररसिंपल्त्त के रूप में मूलसिंरचना ऋण का िगीकरण इन ननदेिों के पैराग्राफ 23 के

प्राििानोंकेअनुसारहोगा;

(xvii) "गौण ऋण” का अथय है पूणयतोः चुकता शलित, जो गैर-जमानती होता है और अन्य ऋणदाता के दािों के

अिीन होता है और प्रनतबिंधित िण्डों से मुक्त होता है और िारक के अनुरोि पर अथिा एनबीएफसी के

पययिेक्षी प्राधिकारी की सहमनत के बबना विमोच्य नहीिं होता है। ऐसे शलित का बही मूलय ननम्नानुसार पुनभुयनाईकेअिीनहोगाोः

627 माचय 2015 की अधिसूचना सिं:011 द्िारा िाशमल ककया गया।

(9)

शलितोंकीिेषपररपक्िताअिधि बट्टादर

(ए) एकिषयतक 100%

(बी) एकिषयसेअधिकककिंतुदोिषयतक 80%

(सी) दोिषयसेअधिकककिंतुतीनिषयतक 60%

(डी) तीनिषयसेअधिकककिंतुचारिषयतक 40%

(ई) चारिषयसेअधिकककिंतुपािंचिषयतक 20%

ऐसीभुनाईकामूलयदटयर-I पूिंजीकेपचासप्रनतितसेअधिकनहो;

(xviii) "पयायप्तदहत"काअथयहै ककसीव्यल्क्तअथिाउसकेपनत-पत्नीअथिाअियस्कबच्चेद्िाराएकल या सामूदहकरूप से ककसी किंपनी के िेयरों में लाभभोगी दहत िाररता ल्जस पर अदा की गई रकम किंपनी की चुकता पूिंजी अथिा भागीदारी फमय के सभी भागीदारों द्िारा अशभदत्त पूिंजी के दस प्रनतितसेअधिकहै;

(xix) "दटयर-I पूिंजी" का अथय ऐसी स्िाधिकृत ननधि से है ल्जसमें से अन्य एनबीएफसी के िेयरों और

िेयरों, डडबेंचरों, बाण्डों, बकाया ऋणों और अधग्रमों में, ल्जनमें ककराया िरीद तथा ककए गए पट्टा

वित्तपोषण एििं सहायक किंपननयों तथा उसी समूह की किंपननयों में रिी जमाराशियािं िाशमल हैं, स्िाधिकृतननधिकेदसप्रनतितसेअधिकननिेि, सकलरूपमें, र्टायागयाहैोः

(xx) "दटयर -II पूिंजी"मेंननम्नशलखितिाशमलहैोः

(ए) उनसेइतरअधिमानीिेयरजोईल्क्िटीमेंअननिाययरूपसेपररितयनीयहै; (बी) 55 प्रनतितकीभुनाई /र्टीदरपरपुनमूयलयािंकनआरक्षक्षतननधि;

7(सी)

"

सामान्य प्राििानों ( मानक पररसिंपल्त्तयों के शलए िाशमल) तथा उस सीमा तक हानन आरक्षक्षत ननधि जो ककसी विशिष्ठ पररसिंपल्त्त के मूलय में िास्तविक कमी या उसमें

ज्ञातव्य सिंभावित हानन के कारण नहीिं है और ये अप्रत्याशित हानन की पूनतय के शलए

जोखिम भाररत पररसिंपल्त्तयों के एक और एक चौथाई प्रनतित की सीमा तक उपलब्ि रहती

है. "

(डी) सिंशमश्र (हाइबब्रड) ऋणपूिंजीशलित; और

(ई) गौणऋण

ल्जसकीसीमासकलराशि, दटयर-I पूिंजीसेअधिकनहो।

717 जनिरी 2011 के यथा अधिसूचना सिं: डीएनबीएस. 222/सीजीएम(युएस)-2011 द्िारा िाशमल

(10)

(2) इसमेंप्रयुक्तअन्यिब्दअथिाअशभव्यल्क्तयों, जोयहािंपररभावषतनहीिं हैंऔरभारतीयररज़ियबैंक अधिननयम, 1934 (1934 का 2) अथिा गैर-बैंककिंग वित्तीय किंपनी साियजननक जमाराशि स्िीकाययता (ररज़िय बैंक) ननदेि, 1998 अथिा अिशिष्ट गैर-बैंककिंगकिंपनी (ररज़िय बैंक) ननदेि, 1987 में पररभावषत की गई हैं, का अथयिही

होगा जोउक्तअधिननयम अथिाउक्तननदेिों मेंहै। कोई अन्यिब्दअथिाअशभव्यल्क्त, जोउक्तअधिननयम या

उनननदेिोंमेंपररभावषतनहीिंहै, कािहीअथयहोगाजोकिंपनीअधिननयम, 1956 (1956 का 1) मेंउनसेअशभप्रेतहै।

आयननधाणिण

3. (1) आयननिायरणमान्यताप्राप्तलेिाशसद्धािंतोंपरआिाररतहोगा।

(2) ब्याज/बट्टा-सदहत आयअथिाएनपीए पर ककसीअन्य प्रभारको गणना मेंतभी शलयाजाएगा जब

िहिास्तिमेंप्राप्तहो गयाहो।ऐसीकोईभी आयल्जसकी गणनापररसिंपल्त्तकेअनजयकबननेसे

पहलेकरलीगईहोऔरिसूलीनगईहो, तोउसेउसमेंसेर्टा (ररिसयकर)ददयाजाएगा।

(3) ककराया िरीद पररसिंपल्त्तयों के सिंबिंि में, जहािं ककस्त 12 महीने से अधिक समय से अनतदेय है, आयके रूपमें उनकी गणना तभी की जाएगी जबककराया प्रभार िास्तिमें प्राप्त हो जाएिं। ऐसी

कोई भीआयल्जसे पररसिंपल्त्तके अनजयकबनने सेपूियलाभ और हाननिातामें जमा केरूपमेंले

शलयागयाहै औरल्जसकीिसूलीनहीिंहुईहै, उसेपलट(ररिसयकर) ददयाजाएगा।

(4) पट्टािालीपररसिंपल्त्तयोंकेसिंबिंिमें, जहािंपट्टाककराया 12 महीनेसेअधिकसमय तकअनतदेयहों, आय के रूप में उनकी गणना तभी की जाएगी जब पट्टा ककरायािास्ति में प्राप्त हो गए हों। पट्टा

ककरायाकीिह ननिलराशि जोपररसिंपल्त्तके गैर-ननष्पादक होनेसेपूियलाभ औरहाननिातेमेंले

लीगईहै औरल्जसकीिसूलीनहीिंहुईहै, पलट (ररिसयकर)दीजाएगी।

स्पष्टीकिण

इस पैराग्राफ के प्रयोजन के शलए, ‘ननिल पट्टा ककराया’ का अथय है सकल पट्टा ककराया जो लाभ-हानन िाते में

नामे/जमा, पट्टा समायोजन िाते से समायोल्जत ककया गया हो और किंपनी अधिननयम, 1956 (1956 का 1) की

अनुसूची XIV केअिंतगयतलागूदरपरमूलयह्रास केरूपमेंर्टायागयाहो।

ननिेिोंसेप्राप्तआय

4. (1) किंपनी ननकायों के िेयरों और पारस्पररक ननधियों की यूननटों के लाभािंि से होने िाली आय की

गणनानकदीकेआिारपरकीजाएगी;

(11)

बिते किंपनी ननकाय द्िारा उसकी िावषयक आम बैठक में इस प्रकार के लाभािंि र्ोवषत ककए जाने पर किंपनी ननकायों के िेयरों पर लाभािंि से होने िाली आय की गणना उपचय के आिार पर की जाए और एनबीएफसीकाभुगतानप्राप्तकरनेसेसिंबिंधितअधिकारस्थावपतहोजाए।

(2) किंपनी ननकायों के बाण्डों एििं डडबेंचरों तथा सरकारी प्रनतभूनतयों/बाण्डें से होनेिाली आय की

गणनाउपचयकेआिारपरकीजाए:

बितेइनशलितोंपरब्याजदरपूिय-ननिायररत होऔरब्याजकाभुगतानननयशमतरूपसेहो रहाहोऔर

िहबकायानहो।

(3) किंपनीननकायोंअथिासरकारीक्षेत्रकेउपक्रमोंकीप्रनतभूनतयोंसेहोनेिालीआय, ब्याजभुगतान और मूलिनकी चुकौतीजो केंद्र सरकारअथिाराज्यसरकारद्िारागारिंटीकृत हो, उसकीगणनाउपचय केआिारपरकीजाए।

लेखांकनमानक

5. भारतीयसनदी लेिाकार सिंस्थान (इन ननदेिों में "आइसीएआइ" नामसे उल्ललखित) द्िारा जारी लेिािंकन मानकऔरमागयदिीनोटकापालनउससीमातकककयाजाएगाजहािंतकिेइनननदेिोंसेबेमेलनहों।

ननिेिोंकालेखांकन

6. (1) (ए) प्रत्येक एनबीएफसीका ननदेिक मण्डलअपनी ननिेि नीनत तैयार करेगाऔर उसेकायायल्न्ित करेगा;

(बी) इसननिेि नीनतमेंकिंपनीकामण्डलननिेिको चालूतथादीर्ायिधिननिेि मेंिगीकृतकरने

सेसिंबिंधितमानदण्डकाउललेिकरेगा;

(सी) प्रत्येकननिेि करतेसमयप्रनतभूनतयों मेंककएगए ननिेिोंकोचालूएििं दीर्ायिधिमेंिगीकृत ककयाजाएगा;

(डी) (i) तदथयआिारपरकोईअिंतर-श्रेणीअिंतरणनहीिंककयाजाएगा;

(ii) आिश्यकहोनेपर, मण्डलकेअनुमोदनसे ‘अिंतर-श्रेणी’ अिंतरणप्रत्येकछमाहीके

प्रारिंभमेंहीपहलीअप्रैलअथिापहलीअक्तूबरकोककयाजाएगा;

(iii) ननिेिकोचालूसेदीर्ायिधिएििंदीर्ायिधिसेचालूश्रेणीमेंबहीमूलयपरअथिा

बाजारमूलयपरजोभीकमहो, िेयरिारअिंतररतककयाजाएगा;

(iv) यददकोईमूलह्रास है, तोप्रत्येकिेयरमेंउसकेशलएपूराप्राििानककयाजाएगा

औरयददकोईमूलयिृवद्धहोतीहैतोउसेनज़रअिंदाज़ककयाजाएगा;

(12)

(v) अिंतर-श्रेणी अिंतरण के समय, यहािं तक कक एक ही श्रेणी के िेयरों के मामले में भी

ककसीिेयरकामूलययास अन्यिेयरकीमूलयिृवद्धकेसाथसमायोल्जतनहीिं ककयाजाएगा, (2) मूलयािंकनकेउद्देश्यसेउद्धृतचालूननिेिोंकोननम्नशलखितश्रेखणयोंकेसमूहमेंरिाजाएगा, अथायत

(ए) ईल्क्िटीिेयर, (बी) अधिमानीिेयर, (सी) डडबेंचरऔरबाण्ड,

(डी) िज़ानाबबलोंसदहतसरकारीप्रनतभूनतयािं, (ई) पारस्पररकननधियोंकीयूननटें, और (एफ) अन्य।

प्रत्येक श्रेणी हेतु उद्धृत चालू ननिेि का मूलयािंकन लागत अथिा बाजार मूलय, जो भी कम हो, पर ककया

जाएगा। इस प्रयोजनसे, प्रत्येक श्रेणीका ननिेि िेयर-िार देिाजाएगा औरप्रत्येक श्रेणी के सभी ननिेिों

की लागतएििं बाजारमूलय कोएकीकृत ककयाजाएगा। यददश्रेणी वििेष कासकल बाजार मूलयउसश्रेणी

कीसकललागतसेकमहै, तोननिलमूलययास केशलएप्राििानककयाजाएगाअथिालाभ-हाननिातेमेंउसे

प्रभाररतककयाजाएगा। यददश्रेणीननिेिकासकलबाजारमूलयउसश्रेणीकीसकललागतसेअधिकहै, तो

ननिल िृवद्धको नजरअिंदाजककया जाएगा।एक श्रेणीके ननिेिके मूलययास कोअन्य श्रेणीकी मूलयिृवद्धके

साथसमायोल्जतनहीिंककयाजाएगा।

(3) चालू ननिेिोंके रूपमें अनुद्धृत ईल्क्िटी िेयरों का मूलयािंकन लागत अथिाअलग-अलगमूलय, जो भी कम हो, परककयाजाएगा।एनबीएफसी, आिश्यक समझनेपर, िेयरोंकेअलग-अलगमूलयकेस्थानपरउधचत मूलयरिसकती हैं। जहािंननिेिप्राप्तकिंपनीकेवपछलेदोिषयकेतुलनपत्रउपलब्ि नहीिंहैं, िहािंऐसेिेयरों

कामूलयािंकनएकरुपएमात्रपरककयाजाएगा।

(4) चालू ननिेिोंकी प्रकृनत केअनुद्धृत अधिमानी िेयरों का मूलयािंकनलागत अथिा अिंककतमूलय, जो भी कम हो, परककयाजाएगा।

(5) अनुद्धृत सरकारी प्रनतभूनतयों या सरकारी गारिंटीकृत बाण्डों में ननिेिों का मूलयािंकन िहन लागत पर ककया

जाएगा।

(6) पारस्पररकननधिकीयूननटोंमेंचालूस्िरूपकेअनुद्धृतननिेिोंकामूलयािंकनपारस्पररकननधिद्िाराप्रत्येक विशिष्टयोजनाकेसिंबिंिमेंर्ोवषतननिलपररसिंपल्त्तमूलयपरककयाजाएगा।

(13)

(7) िाखणल्ज्यकपत्रोंकामूलयािंकनिहनलागतपरककयाजाएगा।

(8) दीर्ायिधिननिेिकामूलयािंकनआइसीएआइद्िाराजारीलेिामानकद्िाराककयाजाएगा।

दटप्पणी : आयननिायरणऔरपररसिंपल्त्तिगीकरणकेप्रयोजनसेअनुद्धृत डडबेंचरोंको मीयादीऋणकेरूपमेंअथिा

अन्यऋणसुवििाओिंकेरूपमेंमानाजाएगाजोइसप्रकारकेडडबेंचरोंकीअिधिपरननभयरकरेगा।

मांग/सूचनाऋणसेसंबंधधतनीनतकीआिश्यकता

7. (1) मािंग/सूचना ऋण दे रही/देने का इरादा रिने िाली प्रत्येक एनबीएफसी के ननदेिक मण्डल को

किंपनी केशलएएकनीनततैयारकरनीहोगीऔरउसेकायायल्न्ितकरनाहोगा; (2) इसनीनतमें, अन्यबातोंकेसाथ-साथ, ननम्नशलखितितोंकाननिायरणककयाजाएगाोः

(i) एकअिंनतमतारीिल्जसकेभीतरमािंगअथिासूचनाऋणकीचुकौतीकीमािंगकीजासकेगीया

सूचनाभेजीजासकेगी;

(ii) मािंग अथिा सूचना ऋण की मिंजूरी देते समय, यदद ऐसे ऋणों को िापस मािंगने अथिा िापसीकी

सूचनादेनेहेतुअिंनतम तारीिऋणकीमिंजूरी कीतारीिसेएकिषयबादकी ननिायररतकीगईहै तो

मिंजूरीदेनेिालाअधिकारीशलखितरूपमेंउसकेवििेषकारणोंकाउललेिकरेगा; (iii) ब्याजकीदरजोऐसेऋणोंपरदेयहोगी;

(iv) इनऋणोंपरयथाननिायररतब्याजयातोमाशसकअथिानतमाहीअिंतरालपरदेयहोगा; (v) मािंगअथिासूचनाऋणमिंजूरकरतेसमय, यददकोईब्याजननिायररतनहीिंककयागयाहै अथिा

यदद ककसीअिधिके शलए ऋणस्थगन (मोरेटोररयम) ककया गयाहै तो मिंजूरी देनेिाला अधिकारी

उसके वििेषकारणोंकाउललेिकरेगा;

(vi) ऋणकेननष्पादनकीसमीक्षाहेतुएकअिंनतमतारीिकाननिायरण,जोऋणमिंजूरीकीतारीिसे

छहमहीनेसेअधिकनहो;

(vii) इनमािंग अथिासूचना ऋणोंकोतबतकनिीकृत नहीिं ककयाजाएगाजबतक आिधिकसमीक्षासे

यहपतानचलेककमिंजूरीकीितोंकासिंतोषजनकअनुपालनककयाजारहा है।

परिसंपत्त्तिगीकिण

8. (1) प्रत्येक एनबीएफसी, स्पष्ट रूप से पररभावषत ऋण कमज़ोररयों (क्रेडडट िीकनेस) की डडग्री एििं

िसूली हेतुसिंपाल्श्ियकजमानतपरननभयरता कीसीमाको ध्यानमें रितेहुए, पट्टा/ककरायािरीद पररसिंपल्त्तयािं, ऋण औरअधग्रमोंतथाककसीअन्यप्रकारकेऋणकोननम्नशलखितश्रेखणयोंमेंिगीकृतकरें, अथायत :

(i) मानकपररसिंपल्त्तयािं, (ii) अिमानकपररसिंपल्त्तयािं, (iii) सिंददग्िपररसिंपल्त्तयािं, और

(14)

(iv) हाननिाली पररसिंपल्त्तयािं,

(2) उपयुयक्त पररसिंपल्त्तयें की श्रेणी मात्र पुनननयिायरण ककए जाने के कारण पदोन्नत नहीिं की जाएगी, जब तक पररसिंपल्त्तयािंअनजयकपदोन्ननतकेशलएअपेक्षक्षतितेंपूरानहीिंकरतीिं।

प्रािधानीकिणअपेक्षा

9. प्रत्येक एनबीएफसी, ककसीिाते के अनजयक होते जाने, उसके अनजयक हो जाने के बीच लगने िाले समय, जमानत राशि की िसूली तथा उस समय में प्रभाररत जमानती राशि के मूलय में हुए क्षरण को ध्यान में रिकर अिमानक, सिंददग्िऔरहाननिालीपररसिंपल्त्तयोंकेशलएननम्नानुसारप्राििानकरेंगी :

(1) िरीदेऔरभुनाएगएबबलों-सदहत ऋण, अधग्रमऔरअन्यऋणसुवििाएिं - िरीदेऔरभुनाएगएबबलों-सदहत ऋणों, अधग्रमोंऔरअन्यऋणसुवििाओिंकेसिंबिंिमेंननम्नानुसारप्राििानककयाजाएगाोः

(i) हाननिालीपररसिंपल्त्तयािं समस्त पररसिंपल्त्त बट्टे िाते डालीजाएगी।यदद ककसी

कारण से पररसिंपल्त्तयों को बदहयों में बने रहने ददया

जाताहैतोबकायाकेशलए 100% प्राििानककयाजाए;

(ii) सिंददग्िपररसिंपल्त्तयािं (ए) अधग्रमकेउसभागकेशलए 100 प्रनतितप्राििान

ककयाजाएगाजो उसजमानतकेिसूलीयोग्यमूलयसे

पूरा नहीिं होता है ल्जसका एनबीएफसी के पास िैि

आश्रयहै। िसूलीयोग्य मूलयकाआकलनिास्तविक आिारपर ककयाजानाहै;

(बी) उपयुयक्त मद (क) के साथ-साथ, पररसिंपल्त्त के

सिंददग्ि बने रहने की अिधि को देिते हुए जमानती

भाग के 20% से 50% तकके शलए (अथायत बकायाका

आकशलतिसूलीयोग्यमूलय) ननम्नशलखितआिारपर प्राििानककयाजाएगाोः

त्जसअिधधतकपरिसंपत्त्तको प्रािधानकाप्रनतित संददग्धमानागया

एकिषयतक 20

एकसेतीनिषयतक 30

तीनिषयसेअधिक 50

(15)

(iii) अिमानकपररसिंपल्त्तयािं कुलबकायाके 10% कासामान्य प्राििानककयाजाएगा।

(2) पट्टा और ककराया िरीद पररसिंपल्त्तयािं- ककराया िरीद और पट्टेिाली पररसिंपल्त्तयों के सिंबिंि में ननम्नानुसार प्राििानककयाजाएगाोः

(i) ककराया िरीद पररसिंपल्त्तयोंके सिंबिंिमें, कुलबकाया (अनतदेय और भविष्यकी ककस्तों को शमलाकर) को

ननम्नानुसारर्टाकरप्राििानककयाजाएगा :

(ए) लाभ-हाननिाता मेंवित्तप्रभार जमानहीिं करकेऔरअपररपक्िवित्तप्रभार केरूपमेंआगेलेजा

करके; तथा

(बी) विचारािीन (प्रनतभूनतगत) पररसिंपल्त्तकेॅयॅाशसतमूलयसे। स्पष्टीकिण

इसपैराग्राफकेप्रयोजनकेशलए,

(1) पररसिंपल्त्तके हाशसतमूलयकी गणना आनुमाननक (नोिनल) आिारपरपररसिंपल्त्तकी मूललागतमें

सीिे क्रम पद्धनत (स्रेट लाइन मेथड) से 20 प्रनतित प्रनतिषय मूलययास की दर से र्टाकर की जाएगी; और

(2) पुरानी पररसिंपल्त्तयोंके मामलेमें, मूल लागत िह लागत होगी जो उस पररसिंपल्त्त को प्राप्तकरने के

शलएव्ययकीगईिास्तविकलागतहोगी।

(ii) ककराया िरीदऔरपट्टाकृतपररसिंपल्त्तयोंहेतुअनतररक्तप्राििान- ककरायािरीदऔरपट्टाकृतपररसिंपल्त्तयोंके

मामलेमें, अनतररक्तप्राििानननम्नानुसारककयाजाएगाोः

(ए) जहािंककरायाप्रभारअथिापट्टाककराया 12 महीनेतकअनतदेय हो

िून्य (बी) जहािंककरायाप्रभारअथिापट्टाककराया 12 महीनेसेअधिक

ककिंतु 24 महीनेतकअनतदेयहो

ननिलबहीमूलयका 10 प्रनतित

(सी) जहािंककरायाप्रभारअथिापट्टाककराया 24 महीनेसेअधिक ककिंतु 36 महीनेतकअनतदेयहो

ननिलबहीमूलयका 40 प्रनतित

(16)

(डी)जहािंककरायाप्रभारअथिापट्टाककराया 36 महीनेसेअधिक ककिंतु 48 महीनेतकअनतदेयहो

ननिलबहीमूलयका 70 प्रनतित

(ई) जहािंककरायाप्रभारअथिापट्टाककराया 48 महीनेसेअधिक समयसेअनतदेयहो

ननिलबहीमूलयका 100 प्रनतित

(iii) ककराया िरीद/पट्टाकृत पररसिंपल्त्त की अिंनतम ककस्त की ननयत तारीि से 12 महीने का समय समाप्त हो

जानेपरसमस्तननिलबहीमूलयकापूराप्राििानककयाजाएगा।

दटप्पणी :

1. ककरायािरीद करारके अनुसरणमें उिारकताय द्िारा एनबीएफसीमें रिी गईजमानत राशि/माल्जयनराशि

अथिाजमानतीराशि कोयददकरारके अिंतगयतसमानमाशसकककस्तेंननिायररतकरतेसमय दहसाबमेंनहीिं

शलयागयाहै, तोउसेउक्तिण्ड (i) केअिंतगयतननिायररतप्राििानमेंसेर्टायाजाए। ककरायािरीदकरारके

अनुसरण मेंउपलब्ि अन्यककसी भी जमानतराशि को उक्तिण्ड (ii) के अिंतगयत ननिायररतप्राििान से ही

र्टायाजाएगा।

2. पट्टाकरारकेअनुसरणमेंउिारकतायद्िाराएनबीएफसीमेंजमानतकेतौरपररिीगईराशितथापट्टाकरार केअनुसरणमेंउपलब्िअन्यककसीजमानतकामूलय, दोनोंकोउक्तिण्ड (ii) केअिंतगयतननिायररतप्राििान सेहीर्टायाजाएगा।

3. यहस्पष्टककयाजाताहैककएनपीएकेशलएआयकाननिायरणऔरप्राििानीकरण, वििेकपूणयमानदण्डोंकेदो

अलगपहलूहैंऔरमानदिंडोंकेअनुसारकुलबकायोंकेएनपीएपरप्राििानकरनेकीआिश्यकताहै साथही

सिंदभायिीनपट्टाकृतपररसिंपल्त्त के औसत बहीमूलयका, पट्टासमायोजनिातेमेंिेषराशिको, यददकोईहो, समायोल्जतकरनेकेबाद, प्राििानककयाजाएगा।यहतथ्यककएनपीएपरआय काननिायरणनहीिंककयागया

है, प्राििाननकरनेकेकारणकेरूपमेंनहीिंमानाजाएगा।

4. इन ननदेिों के पैरा (2)(1)(xvi)(ि) में सिंदशभयत पररसिंपल्त्त ल्जसके शलए पुनोः बातचीत(ररननगोिएट) की गई अथिाल्जसेपुनननयिायररतककयागया, अिमानकपररसिंपल्त्तमानीजाएगीअथिायहउसीश्रेणीमेंबनीरहेगी

ल्जस श्रेणी में िह पुनोः बातचीत अथिा पुनननयिायरण के पूिय,जैसा भी मामला हो, सिंददग्ि अथिा हाननिाली

पररसिंपल्त्तकेरूपमेंथी। ऐसीपररसिंपल्त्तयोंकेशलएयथालागूप्राििानतबतकककयाजातारहेगाजबतक यहउन्नतश्रेणीमेंनबदलजाए।

5. पैरा 10 केउपपैरा (2) मेंउल्ललखितप्राििानोंकेअनुसारएनबीएफसीद्िारातुलनपत्रतैयारककयाजाए।

6. 1 अप्रैल, 2001 को या उसकेबादशलिेगए सभीवित्तीयपट्टोंकेशलए ककरायािरीदपररसिंपल्त्तयोंपरलागू

प्राििानउनपरभीलागूहोंगे।

7. 8एनबीएससी-एमएफआई केमामलेमें, यदद अधग्रमननम्नआयिगयकेआिासकेशलएऋण जोखिमगारिंटी

ननधिरस्ट (सीआरजीएफटीएलआईएच) द्िारारक्षक्षत(किर) है तथागारिंटीकृत अधग्रमअजयनकहो बनजाती

81 जनिरी 2014 की अधिसूचना सिं.गैबैंपवि.268/पीसीजीएम(एनएसिी)2014 द्िारा िाशमल ककया गया।

(17)

है, तोगारिंटीकृत भागकेशलएकोईप्राििानकरनेकीआिश्यकतानहीिंहै।गारिंटीकृतभागकेअनतररक्तिेष बकायाराशिकोअनजयकअधग्रमोंकेशलएमौजूदाददिाननदेिकेअनुसारप्राििानककयाजानाचादहए।

9 "9ए. प्रत्येक गैर बैंककिंग वित्तीय किंपननयािं को अनतदेय मानक पररसिंपल्त्तयों के 0.25 प्रनतित का

सामान्य प्राििान करना है,ल्जसकी गणना ननिल अनजयक पररसिंपल्त्तयों में नहीिं की जानी है. मानक पररसिंपल्त्तयों के शलए ककए गए प्राििान को सकल अधग्रमों से नहीिं र्टाना है ककिंतु तुलन पत्र में

अलग से "मानक पररसिंपत्तीयों के विरूद्ध आकल्स्मक प्राििान" में दिायया जाना है.

10“बितें कक 31 माचय 2016 तक मानक आल्स्तयों के शलए 0.30प्रनतित प्राििान ककया जाए, 31

माचय 2017 तक के शलए 0.35 प्रनतित, 31 माचय 2018 तथा इसके बाद के शलए 0.40 प्रनतित”

का प्राििान ककया जाए।

तुलनपत्रमेंप्रकटीकिण

10. (1) प्रत्येकएनबीएफसीअपनेतुलनपत्रमेंअलगसे, उपयुयक्तपैरा 9 केअनुसारककएगएप्राििानोंकोआय अथिापररसिंपल्त्तयोंकेमूलयसेर्टाएबबनाप्रकटकरेंगी।

(2) प्राििानोंकाउललेिवििेषरूपसेननम्नशलखितपृथकिातािीषयकोंकेअिंतगयतककयाजाएगाोः

(i) अिोध्यऔरसिंददग्िऋणोंकेशलएप्राििान; तथा

(ii) ननिेिोंमेंमूलययास हेतुककएगएप्राििान।

(3) इन प्राििानों को एनबीएफसी द्िारा िाररतसामान्य प्राििान एििं हाननगत आरक्षक्षत ननधि, यदद कोई हो, सेसमायोल्जतनहीिंककयाजाएगा।

(4) इन प्राििानों को प्रत्येक िषय लाभ-हानन िाता में नामे डाला जाएगा। सामान्य प्राििान एििं हाननगत आरक्षक्षत ननधििीषयके अिंतगयतिाररत अधििेषप्राििान, यददकोई हो, के साथ उन्हेंसमायोल्जत ककए बबनापुनरािंककतककयाजाए।

11एनबीएफसी द्िािा लेखा-पिीक्षा सशमनत का गठन

लेखािषण

9 17 जनिरी 2011 की अधिसूचना सिं: डीएनबीएस.222/सीजीएम(युएस)-2011 द्िारा िाशमल ककया गया।

1027 माचय 2015 की अधिसूचना सिं.011 द्िारा िाशमल ककया गया।

1127 माचय 2015 की अधिसूचना सिं: 011 द्िारा हटाया गया।

References

Related documents

[r]

ACCENT JOURNAL OF ECONOMICS ECOLOGY & ENGINEERING Peer Reviewed and Refereed Journal, ISSN NO... ACCENT JOURNAL OF ECONOMICS ECOLOGY & ENGINEERING Peer Reviewed and

साभान्म ननदेश – ननम्नमरखखत प्रश्नों भें से ककन्हीॊ तीन के उत्तय दीजजए।.. General Instructions : Answer

Annual implementation report (for the period 1 st April to 31 st March) providing information about the compliance of provisions in this notification shall be

[r]

Production of bakery products and other cereal based products (e.g. pasta, noodles, snacks), Production of beer and other cereal based beverages, Dairy processing,

[r]

EòÉä®úα±ÉªÉÉäEòÉÊ®úºÉ OÉÉʨÉÊxɪÉÉ (b÷ÉxÉÉ,1852) ¨ÉÉbÅä÷{ÉÉä®äúÊ®úªÉÉ |É´ÉɱÉÉå Eäò ºÉÉlÉ ºÉ½þªÉÉäMÉ +Éxb÷¨ÉÉxÉ +Éè®ú ÊxÉEòÉä¤ÉÉ®ú 23 ʨÉ

- British Antarctic

EåòpùÒªÉ ºÉ¨ÉÖpùÒ ¨ÉÉÎiºªÉEòÒ +xÉÖºÉÆvÉÉxÉ ºÉƺlÉÉxÉ (¦ÉÉ®úiÉÒªÉ EÞòÊ¹É +xÉÖºÉÆvÉÉxÉ {ÉÊ®ú¹Énù).

{ÉÉxÉÒ Eäò xɨÉÚxÉÉå ¨Éå +¨ÉÉäÊxÉ+É EòÒ ¨ÉÉjÉÉ EòÉä näùJÉxÉä Eäò ʱÉB º{ÉäC]ÅõC´ÉÉìx]õ xÉÉä´½þÉ 30 ¡òÉä]õÉä¨ÉÒ]õ®ú [Spectroquant Nova 30

Central Marine Fisheries Research Institute, Cochin. Indian Council of

“kkjhfjd rhoz ,saBu dh fLFkfr mRiUu gks tkrh gSA jksxh dh izolu izfdz;k Hkh :d- :ddj pyrh gS jksxh dk tcM+k cUn gks tkrk gS] ekalisf”k;k¡ vdM+ dj gM~Mh dh rjg l[r gks tkrh gS jksxh

“Flexible infl ation targets, forex interventions and exchange rate volatility in emerging countries”, Journal of International Money and Finance, Vol..

वववरण

[r]

[r]

[r]

[r]

[r]

[r]

The banks stock exchanges/depositories, intermediaries regulated by SEBI, insurance companies, Registrar of Immovable Properties and the State/UT nodal officers shall

शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार के अधीन एक स्वायत्त संगठन..