• No results found

(1)वित्तीय स्थिर्ा ररपोर्ट अंक संखया 13 भार्तीय ररज़ि्ट बैंक जून 2016 (2)सिा्टधिकार सुरक्ष

N/A
N/A
Protected

Academic year: 2022

Share "(1)वित्तीय स्थिर्ा ररपोर्ट अंक संखया 13 भार्तीय ररज़ि्ट बैंक जून 2016 (2)सिा्टधिकार सुरक्ष"

Copied!
104
0
0

Loading.... (view fulltext now)

Full text

(1)

वित्तीय स्थिर्ा ररपोर्ट

अंक संखया 13

भार्तीय ररज़ि्ट बैंक

जून 2016

(2)

सिा्टधिकार सुरक्षि्। इस सामग्ती के उद्धरण की अनुमत् है, बश्ते स्ो् को दशा्टया जाए।

यह प्रकाशन इंररनेर में http://www.rbi.org.in पर उपलबि है।

कृपया इसके संबंि में प्रत्क्रिया fsu@rbi.org.in को भेजें।

वित्तीय स्थिर्ा इकाई, भार्तीय ररज़ि्ट बैंक, मुंबई 400 001 दिारा प्रकाशश् ्थिा अलको कॉरपोरेशन, गाला सं. ए-25, ए विंग, ्ल मंसज़ल, ितीरिानती इन्ड्ट्रीयल इ्रेर, गोरेगांि पूि्ट, मुंबई-400 063 दिारा अशभकसलप् एिं मुद्रि्।

(3)

विशि की सभती अथि्टवयि्थिाओं में िृवद्ध की बहालरी की स्थित् कमजोर और असमान है। कुछ भागों

में अि््ीत् का दिाब है ्थिा कुछ षिेत्ाधिकारों में मौद्रिक नतीत् के रुझान की द्दशा के बदलने की

संभािना के कारण अतनसशचि््ाएं बनती हुई हैं। इसके अलािा, अं्रा्टष्ट्रीय ््र पर भू-राजनैत्क जोखिम भती बढ़्ा जा रहा है।

इस चिुनौत्पूण्ट िैसशिक पररदृशय में नतीत्-तनमा्टण के दौरान ऐसे तनण्टय शलये जा सक्े हैं सजनसे

अनय देशों पर नकारातमक प्रभाि पड़ सक्े हैं। यदयवप, भार् ने अपेषिाकृ् अधिक मजबू् िृवद्ध दज्ट कर्े हुए मूलभू् आधथि्टक सुिार क्कए हैं, हमें ठोस घरेलू नतीत्यों ्थिा संरचिनाग् सुिार के माग्ट पर ्डरे

रहने की जरूर् है। हमें उन पारंपररक मुद्ों का समािान करना है सजनके कारण िृवद्ध अिरुद्ध हो रहरी है

्थिा अपनती कारोबाररी प्रक्रियाओं और आचिरण की दषि्ा में िृवद्ध हे्ु पररि््टन करने हैं। बैंक्कंग षिेत् पर पड़ रहे दिाब को कम करने की जरूर् है कयोंक्क यह कॉरपोरेर षिेत् पर पड़ रहे दबाि को दशा्ट्ा है।

ऋण िृवद्ध को बेह्र बनाने के शलए यह जरूररी है।

घरेलू वित्तीय प्रणालरी के बदल्े फ्ेमिक्ट में दषि्ापूण्ट जोखिम विभाजन और मधय्थि्ा के साथि- साथि मौद्रिक नतीत् के संके्ों के प्रभािती संप्रेषण की वयि्थिा होनती चिाद्हए। इस प्रकार, वित्तीय स्थिर्ा

ररपोर्ट का यह अंक “बैंक बनाम बाजार” पर विषय आिारर् चिचिा्ट को ्थिान दे्ा है कयोंक्क हम वित्तीय षिेत् के शलए ऐसती संरचिना ्थिावप् करने की ओर बढ़ रहे हैं जो संपदा षिेत् के शलए बेह्ररीन सेिाएं

प्रदान करेगा।

इस पररप्रेक्य में, यह ररपोर्ट घरेलू वित्तीय प्रणालरी के सामरय्ट, कमजोररी और लचितीलेपन के संबंि

में गुणातमक ि मात्ातमक मूलयांकन प्र््ु् कर्ती है, इसके अलािा कुछ प्रासंधगक मुद्ों पर भती प्रकाश

्डाला गया है।

रघुरताम जी. रताजन गिन्टर

23 जून 2016

(4)
(5)

ववषय-सूची

पृष्ठ सं.

प्रस्तावनता

चयनन् संक्षिप्ताषिरों की सूची i-iii

ववहंगतावलोकन 1

अधयताय I : समषषटि-ववत्ीय जोखिम 3-20

िैसशिक पृष्रभूशम 3

घरेलू अथि्टवयि्थिा 8

कॉरपोरेर षिेत् 14

अधयताय II : ववत्ीय संस्ताएं: सुदृढ़्ता और लचीलतापन 21-48

अनुसूधचि् िाखणस्यक बैंक 21

तनष्पादन 21

जोखिम 29

लचितीलापन – दबाि पररीषिण 29

अनुसूधचि् शहररी सहकाररी बैंक 41

तनष्पादन 41

लचितीलापन – दबाि पररीषिण 41

गैर-बैंक्कंग वित्तीय कंपतनयां 42

तनष्पादन 42

लचितीलापन – दबाि पररीषिण 43

पर्पर संबद्ध्ा 43

अधयताय III : ववत्ीय षिषेत्र ववननयमन 49-76

भताग I: ववत्ीय प्रणताली हषे्ु अधिक्म उपयोग संरचनता- बैंक बनताम बताजतार 49

भताग II: भतार् में ववत्ीय षिषेत्र – ववननयमन और ववकतास 57

अं्रराष्ट्रीय वितनयामक सुिार काय्टसूचिती 57

घरेलू वित्तीय प्रणालरी 58

बैंक्कंग षिेत् 58

वित्तीय समािेशन 63

गैर-बैंक्कंग वित्तीय कंपतनयां 64

भुग्ान और तनपरान प्रणाशलयाँ 65

पूंजती बाजार 67

कृवष पणय बाज़ार 71

पणय ्डेररिेद्रि बाज़ार 72

बतीमा षिेत् 74

पेंशन षिेत् 74

वित्तीय स्थिर्ा और विकास पररषद 76

अनुबंि 1: प्रणतालीग् जोखिम सववेषिण 77

अनुबंि 2: कताय्यप्रणताललयताँ 81

(6)

पृष्ठ सं.

बॉकसों की सूची

1.1 ऋणातमक नतीत्ग् दरें – वित्तीय स्थिर्ा के मुद्े 5

1.2 नैत्क संकर एिं नैत्क्ा 12

2.1 बैंक्कंग षिेत् में दबाि – सरकार दिारा हाल हरी में क्कए गए उपाय 25

3.i प्रौदयोधगकी : सकारातमक्ा और नकारातमक्ा की सहमूत््ट 53

3.1 द्दिाला और शोिन अषिम्ा संद्ह्ा 2016 60

3.2 ऋण गारंररी योजनाओं का वितनयमन 63

3.3 वित्तीय समािेशन संबंिती मधयािधि माग्ट पर बनती सशमत् की प्रमुि शस्ाररशें 64 चताटि्य की सूची

1.1 िैसशिक संिृवद्ध का पररदृशय और यूएस के शलए समसष्र संके्क 3

1.2 सोने और ब्ेंर कचचिा ्ेल की कीम्ों की प्रिृसत्, पणयि््ु और यूएस्डती सूचिकांक 4

1.3 ्े्ड बयाज दरों की अं्तन्टद्ह् प्रातयक्ा की ऐत्हाशसक प्रिृसत् 4

1.4 मुरिा््ीत् की 10 िषषीय ब्ेक-ईिन दरों की प्रिृसत् 6

1.5 यूएस में इसकिररी और गृह मूलय सूचिकांकों ्थिा मुरिा््ीत् की प्रिृसत् 6

1.6 उभर्े बाज़ार बॉण्ड और मुरिा सूचिकांकों की प्रिृसत् 7

1.7 विशि वयापार और अमेररकी ्डॉलर की प्रिृसत् 7

1.8 िैसशिक चिालू िा्े में सं्ुलन और सकल पूंजती प्रिाह 7

1.9 िा््विक जती्डतीपती की िृवद्ध की प्रिृसत् एिं बाजार कीम् पर जती्डतीपती की संरचिना 8

1.10 षिम्ा उपयोग एिं औदयोधगक उतपादन 8

1.11 वयािसातयक क्रियाकलाप की सूचिक प्रिृसत् एिं बचि् की संरचिना 9

1.12 केंरिरीय सरकार के राज्ि एिं वयय 9

1.13 बड़ती ससबसड्डयों एिं कुल ससबसड्डयों में प्रिृत् 9

1.14 बाहय षिेत् इं्डतीकेरर, कचचिे ्ेल की कीम्ें एिं वयापार घारा 10

1.15 कचचिे ्ेल की कीम्ें एिं तनजती अं्रण 10

1.16 िषा्ट, कृवष में िृवद्ध, िादय पदाथि्ट का उतपादन एिं मुरिा््ीत् 11

1.17 कृवष षिेत् को बैंक ऋण 11

1.18 ्रॉक सूचिकांकों की प्रिृसत् 13

1.19 घर कीम्ों की प्रिृसत् 13

1.20 एनजतीएनए् सूचितीबद्ध कंपतनयाँ: कमजोर कंपतनयाँ – ि््टमान प्रिृसत् 15

1.21 चिुतनंदा उदयोगों का जोखिम प्रो्ाइल (माचि्ट 2016) 15

1.22 कारपोरेर षिेत् स्थिर्ा संके्क और मानधचित् 16

(7)

पृष्ठ सं.

1.23 कारपोरेर षिेत् के काय्ट-तनष्पादन के संके्क: आकार के अनुसार िगषीकरण 17 1.24 कारपोरेर षिेत् के काय्ट-तनष्पादन के संके्क: चिुतनंदा उदयोग : 2014-15 17

1.25 एनजतीएनए् कमजोर कंपतनयां 18

1.26 एनजतीएनए् कमजोर कंपतनयां: चिुतनंदा उदयोग : 2014-15 19

2.1 ऋण और जमाराशश में िृवद्ध: िष्ट-दर-िष्ट आिार पर 21

2.2 पूंजती पया्टप््ा और लरीिरेज अनुपा् 22

2.3 आर्डबलयूए ्डेंशसररी 22

2.4 अनुसूधचि् िाखण्य बैंकों की आस्् गुणित्ा 23

2.5 अनुसूधचि् िाखण्य बैंकों का एनएनपतीए 23

2.6 जतीएनपतीए की िष्ट दर िष्ट िृवद्ध 23

2.7 आस्् गुणित्ा की संभावय्ा घनति काय्टप्रणालरी 24

2.8 बड़े षिेत्ों में आस्् गुणित्ा 24

2.9 उदयोग के बड़े उप-षिेत्ों का दबािग््् अधग्म अनुपा् 24

2.10 मानक िा्ों का एनपतीए श्ेणती में िावष्टक ्लरीपेज़ – षिेत्िार 25

2.11 मानक िा्ों का एनपतीए श्ेणतीमें िावष्टक ्लरीपेज़ – ऋण के आकार के अनुसार 26

2.12 एससतीबती के ऋण पोर्ट्ोशलयो में बड़े उिारक्ा्टओं का द्ह्सा 26

2.13 शस्ंबर-15 और माचि्ट-16 के बतीचि बड़े उिारक्ा्टओं की आस्् गुणित्ा के प्रत्श् में बदलाि 27

2.14 बड़े उिारक्ा्टओं का जतीएनपतीए ्थिा एसएमए-2 27

2.15 आय के सािन: िष्ट दर िष्ट िृवद्ध 28

2.16 आरओए (िावष्टक) पर आिारर् एससतीबती का वि्रण 28

2.17 आरओए की संभावय्ा सघन्ा काय्टप्रणालरी 29

2.18 बैंक्कंग स्थिर्ा संके्क 29

2.19 बैंक्कंग स्थिर्ा मानधचित् 29

2.20 एसबतीसती के प्रणालरीग् ््र पर जतीएनपतीए अनुपा् ्थिा सतीआरएआर का अनुमान 30

2.21 बैंक समूहिार जतीएनपतीए अनुपा् एिं सतीआरएआर का अनुमान 31

2.22 विशभनन पररदृशयों के अं्ग्ट् अनुमातन् षिेत्ग् जतीएनपतीए 31

2.23 ऋण जोखिम- आघा् और असर 32

2.24 सतीआरएआर के अनुसार बैंकों का वि्रण 32

2.25 ऋण संकेंरिण जोखिम: िैयसक्क उिारक्ा्ट- एकसपोजर 33

2.26 ऋण संकेंरिण जोखिम: िैयेसक्क उिारक्ा्ट- दबािग््् अधग्म 34

2.27 बारम-अप दबाि पररीषिण – ऋण एिं बाजार जोखिम – सतीआरएआर पर प्रभाि 39

(8)

पृष्ठ सं.

2.28 बॉरम अप दबाि पररीषिण – ्रल्ा जोखिम 40

2.29 कुल ्डेररिेद्रि के एमररीएम – चिुतनंदा बैंक – माचि्ट 2016 40

2.30 दबाि पररीषिण–चिुतनंदा बैंकों के ्डेररिेद्रि पोर्ट्ोशलयो पर आघा्ों का असर 41

2.31 एनबतीए्सती षिेत् की आस्् गुणित्ा और पूंजती पया्टप््ा 42

2.32 अं्र बैंक बाजार का आकार (रन्टओिर) 43

2.33 अं्रबैंक बाजार में विशभनन बैंक समूहों का द्ह्सा 44

2.34 अं्रबैंक बाजार में तनधि आिारर् दरीघा्टिधि ्थिा अलपािधि एकसपोज़रका द्ह्सा 44

2.35 अलपािधि तनधि आिारर् अं्रबैंक बाजार की संरचिना 44

2.36 भार्तीय बैंक्कंग प्रणालरी की नेरिक्ट संरचिना (माचि्ट 2016) 45

2.37 बैंक्कंग प्रणालरी की संबद्ध्ा सांसखयकी 45

2.38 वित्तीय प्रणालरी का नेरिक्ट पलॉर 46

2.39 उसती द्ट्गर बैंक से प्रभावि् बैंक 48

3.i बैंकों और गैर बैंक स्ो्ों दिारा िाखणस्यक षिेत् को वित्तीय संसािनों का प्रिाह 55 3.1 प्रमुि िैसशिक बैंकों की पूंजती अनुपा् और जोखिम –भारर् आस््यों की प्रिृसत्यॉ ं 57

3.2 बाज़ार सूचिकांक से संबंधि् बैंक्कंग सूचिकांक में प्रिृसत्यां 59

3.3 कुल बैंक अधग्मों में लघु उदयोगों को ऋण का द्ह्सा 62

3.4 बैंकों के वित्तीय समािेशन काय्टरिम में प्रगत् 64

3.5 भुग्ान प्रणालरी संके्क 65

3.6 आई एम पती एस की मात्ा में िृवद्ध 66

3.7 ईसकिररी और ्डेर पसबलक इशयू में प्रिृत् 67

3.8 प्राथिशमक बाजार गत्विधि 67

3.9 कॉरपोरेर कापपोरर बॉन्ड इशयू 67

3.10 कुल रन्टओिर में शतीष्ट ्राकों और सद्यों का शेयर 68

3.11 एनएसई में एलगोररथिशमक आ्ड्टर और कुल ट्े्ड का अनुपा् 68

3.12 बती-15 शहरों के मयुचिुअल ्ं्ड पररसंपसत्यों का शेयर 69

3.13 ऋण मयूचिुअल ्ं्डों का एयूएम और कारपोरेर बां्ड में एकसपोजर 70

3.14 एनएसई तनफररी कंपतनयों के ्िाशमति का पैरन्ट 70

3.15 एनएसई में सूचितीबद्ध शतीष्ट की कंपतनयों के प्रोमोररों दिारा धगरिती रिे गये शेयरों का अनुपा् 70

3.16 ऑ्सोर ्डेररिेद्रि शलि् और ए्पतीआई का एयूसती 71

3.17 कृवष पणय ्डेररिेद्रि में ट्ेड्डंग की मात्ा 72

3.18 राष्ट्रीय पेंशन प्रणालरी के अितीन अशभदान की प्रिृसत् और एयूएम 74

(9)

सतारणषयों की सूची

1.1 सूचितीबद्ध एनजतीएनए् कंपतनयों के काय्ट तनष्पादन के चिुतनंदा वित्तीय अनुपा् 14 1.2 सूचितीबद्ध एनजतीएनए् कंपतनयाँ : कॉरपोरेर लरीिरेज में समानये्र जोखिम 14 1.3 एनजतीएनए् कंपतनयों दिारा बैंक ऋणों की कज्ट चिुकौ्ती षिम्ा में कमजोररी का प्रभाि 19

2.1 एससतीबती का बड़े उिारक्ा्टओं के प्रत् एकसपोजर 27

2.2 एससतीबती की लाभप्रद्ा 28

2.3 समसष्र आधथि्टक पररदृशय के अं्ग्ट् मानय्ाएँ (2016-17) 30

2.4 ऋण संकेंरिण जोखिम:समूह उिारक्ा्ट 34

2.5 षिेत्ग् ऋण जोखिम: उदयोग –आघा् एिं असर 35

2.6 षिेत्ग् ऋण जोखिम: आिारभू् संरचिना –आघा् एिं असर 36

2.7 षिेत्ग् ऋण जोखिम: चिुतनंदा उदयोग 37

2.8 बयाज दर जोखिम-बैंक समूह-आघा् एिं असर 37

2.9 चिलतनधि जोखिम – आघा् एिं असर 38

2.10 चिलतनधि जोखिम – आघा् एिं असर – एलसतीआर तनधिप्रणालरी 39

2.11 एनबतीए्सती षिेत् का समेक्क् ्ुलन पत् : िष्ट-दर-िष्ट िृवद्ध (प्रत्श् ) 42

2.12 एनबतीए्सती षिेत् का वित्तीय तनष्पादन (प्रत्श्) 42

2.13 इंरर सेकरर पररसंपसत्यां और देनदाररयां 46

2.14 बैंकों में बतीमा कंपतनयों और एएमसती-एमएफ़ के एकसपोजर का पैरन्ट (माचि्ट 2016) 47 2.15 एनबतीएफ़सती में एससतीबती, एएमसती-एमएफ़ ्थिा बतीमा कंपतनयों का एकसपोजर 47

2.16 तनिल उिारक्ा्ट बैंकों से प्रारमभ हुई संरिामक्ा 47

2.17 तनिल उिारदा्ा बैंकों दिारा प्रारमभ की गई संरिामक्ा 47

पृष्ठ सं.

(10)
(11)

एई उनन् अथि्टवयि्थिाएँ

एएफ़आई अखिल भार्तीय वित्तीय सं्थिाएं

एएफ़एस बबरिी के शलए उपलबि

एआईएफ़ िैकसलपक तनिेश तनधि

एएमसती-एमएफ़ आस्् प्रबंिन कंपनती – मयूचिुअल ्ं्ड एएमएल िनशोिन तनिारण

एपतीएमसती कृवष उतपाद बाजार सशमत्

एकयूआर आस्् गुणित्ा समतीषिा

एयूसती संरषिणाितीन आस््यां

एयूएम प्रबंिनाितीन आस््यां

बतीसतीबतीएस बैंक पय्टिेषिण संबंिती बासेल सशमत्

बतीसती-आईसतीररी कारोबार प्रत्तनधि – सूचिना और संचिार प्रौदयोधगकी

बतीएसबती्डतीए सािारण बचि् बैंक जमा

बतीएसआई बैंक्कंग स्थिर्ा सूचिकांक

सतीसतीआईएल भार्तीय समाशोिन तनगम शलशमरे्ड सतीसतीपती केंरिरीय प्रत्पषिती

सती्डती जमा प्रमाणपत्

सतीईआरएसएआई भार्तीय प्रत्भूत्करण पररसंपत् पुनतन्टमा्टण और प्रत्भूत् ्िति की केंरिरीय रसज्ट्री

सतीजतीएफ़एसईएल शैषिखणक ऋण रिेड्डर गारंररी तनधि योजना

सतीजतीएफ़एसएस्डती कौशल विकास ऋण गारंररी तनधि योजना

सतीजतीररीएमएसई सूक्म और लघु उदयोग ऋण गारंररी योजना

सतीपती िाखणस्यक पत्

सतीआरएआर जोखिम भारर् आस््यों की ्ुलना में

पूंजती अनुपा्

सतीआरजतीएफ़ररी- तनमन आय िग्ट आिास हे्ु ऋण एलआईएचि जोखिम गारंररी तनधि

सतीआरआईएलसती बड़े ऋणों के संबंि में सूचिना का केंरिरीय भं्डार

सतीआरआर प्रारक्षि् नकदरी तनधि अनुपा्

सतीएसओ केंरिरीय सांसखयकी काया्टलय

्डती्डतीओएस सेिाएँ न देने की िमकी/ बहु््ररीय सेिा

िंचिन

्डतीईआर इसकिररी अनुपा् की ्ुलना में ऋण

्डतीआईसतीजतीसती तनषिेप बतीमा और प्रतयय गारंररी तनगम

्डतीआरररी ऋण िसूलरी अधिकरण ईबतीआईररी बयाज कर से पूि्ट आमदनती

ईबतीआईररी्डतीए बयाज, कर, मूलयह्ास ्थिा पररशोिन से

पूि्ट आमदनती

ईबतीपती इलेक् ट्ातनक बुक काय्टप्रणालरी

ईबतीपतीररी प्राििान और कर से पूण्ट आमदनती

ईएमई उभर्ती बाज़ार अथि्टवयि्थिा

ईएसएमए यूरोवपयन प्रत्भूत् ्थिा बाज़ार प्राधिकरण एफ़बती विदेशती बैंक

एफ़एररीएफ़ वित्तीय कार्टिाई काय्ट बल एफ़आईपती वित्तीय समािेशन योजना

एफ़आईयू वित्तीय इंरेशलजेंस इकाई एफ़एलसती वित्तीय साषिार्ा केंरि

एफ़पतीआई विदेशती संविभाग तनिेश

एफ़आरबतीएम राजकोषतीय उत्रदातयति और बजर प्रबंिन एफ़एस्डतीसती वित्तीय स्थिर्ा और विकास पररषद एफ़एसआर वित्तीय स्थिर्ा ररपोर्ट

जती2पती सरकार से वयसक्

जतीसतीसती सामानय रिेड्डर का्ड्ट जतीएफ़सती िैसशिक वित्तीय संकर जतीएनपतीए सकल अनज्टक आस््यां

एचिएफ़ररी वयापार के शलए िारर्

एचिकयूएलए उचचि गुणित्ा िालरी चिलतनधि आस््यां

एचिररीएम पररपकि्ा ्क िारर्

आईएबतीसती द्दिाला और शोिन अषिम्ा संद्ह्ा

आईसतीएमए अं्रराष्ट्रीय पूंजती बाज़ार संघ आईसतीआर बयाज किरेज अनुपा्

i

चयनन् संक्षिप्ताषिरों की सूची

(12)

आईईए अं्रराष्ट्रीय ऊजा्ट एजेंसती

आईआईपती औदयोधगकी उतपादन का सूचिकांक आईएमएफ़ अं्रराष्ट्रीय मुरिा कोष

आईएमपतीएस ्तकाल भुग्ान सेिा

आईएन्डतीसती लषितीभू् राष्ट्रीय तनिा्टरर् योगदान आईआर्डतीएआई भार्तीय बतीमा वितनयामक और विकास

प्राधिकरण

जेएलएफ़ संयुक् उिारदा्ा मचि

केसतीसती क्कसान रिेड्डर का्ड्ट केपतीआई मूल काय्टतनष्पादन सूचिकांक केिाईसती अपने ग्ाहक को जानों

एलसतीआर चिलतनधि किरेज अनुपा्

एमएफ़आई सूक्म वित्तीय सं्थिाएं

एमओएसपतीआई सांसखयकी और काय्टरिम काया्टनियन मंत्ालय

एमएसएमई सूक्म, लघु और मधयम उदयम एनएएम राष्ट्रीय कृवष बाज़ार

एनबतीएफ़सती गैर बैंक्कंग वित्तीय कंपतनयाँ

एनसतीजतीररीसती राष्ट्रीय ऋण गारंररी नयासती कंपनती

एनसतीएलररी राष्ट्रीय कंपनती विधि नयायाधिकरण एनजतीएनएफ़ गैर सरकाररी गैर वित्तीय

एनआईआईएफ़ राष्ट्रीय तनिेश और आिारभू् संरचिना

तनधि

एनआईआरपती ऋणातमक बयाज दर नतीत्

एनएनपतीए तनिल अनज्टक अधग्म

एनपतीसतीआई भार्तीय राष् ट्रीय भुग्ान तनगम एनपतीएस अनज्टक अधग्म

ओ्डतीआई सतीमा पार ्डेररिेद्रि शलि्

पतीएररी कर पशचिा् लाभ पतीबती भुग्ान बैंक

पतीएफ़आर्डतीए पेंशन तनधि वितनयामक और विकास प्राधिकरण

पतीएमजे्डतीिाई प्रिानमंत्ती जन िन योजना

पतीएन सहभाधग्ा नोर

पतीपतीएसती पेट्ोशलयम आयोजना और विशलेषण कषि

पतीएसबती सरकाररी षिेत् के बैंक कयूआईबती अह्ा्टप्राप् सं्थिाग् रिे्ा

कयूआईपती अह्ा्टप्राप् संस् थिाग् प् लेसमेंर आरररीजतीएस ्तकाल सकल तनपरान आर्डबलयूए जोखिम भारर् आस््यां

एससतीबती अनुसूधचि् िाखणस्यक बैंक

सेबती भार्तीय प्रत्भूत् और वितनमय बो्ड्ट एसएफ़बती लघु वित् बैंक

एसएलआर सांविधिक चिलतनधि अनुपा्

एसयूसतीबती अनुसूधचि् शहररी सहकाररी बैंक ररीआरई्डतीएस वयापार प्रापय बट्ा प्रणालरी

यूसतीबती शहररी सहकाररी बैंक यूपतीआई एकीकृ् भुग्ान इंररफ़ेस

ii

(13)

1

विहंगािलोकन

विहंगािलोकन

समष्टि-वित्तीय जोखिम

िैष्िक अर्थवयिसरा और बाजार

कमज़ोर व ववषम संवृवधि, ववशव व्यापयार में सुस्ती

्थया ववत्ती् व पण्वस्ु बयाजयारों में अनिशशचि््याओं के

चिल्े वैशशवक सुधयार संकट के दौर से गुजर रहया है। सयाथ ही, कई उनि् अथ्थव्वसथयाओं दवयारया अपियाई जया रही

मौजूदया अन्-सहज मौद्रिक ितीन् के अवयांनि् दुष्प्रभयाव द्दखयाई पड़ रहे हैं, ्हयां ्क कक संवृवधि क़ो गन् प्रदयाि

करिे में उिके कयारगर रहिे के संबंध में अब ्क क़ोई ठ़ोस प्रमयाण िहीं ममले हैं। इसके अलयावया, निकयास कया््थितीन्

कया क़ोई सपष्ट संके् द्दखयाई िहीं देिे की वजह से इस बया् क़ो लेकर चचिं्या और बढ़ रही है कक ऐसती ितीन््यां कब

्क जयारी रहेंगती।

घरेलू अर्थवयिसरा और बाजार

व््थमयाि में भयार्ती् अथ्थव्वसथया संवृवधि और निवेश की संभयावियाओं की दृशष्ट से अन् उभर्ती बयाजयार अथ्थव्वसथयाओं की ्ुलिया में बेह्र शसथन् में है। ्थयावप, संवृवधि के उचचि स्र क़ो बियाए रखिे के मलए सकल नि्् पूंजती निमया्थण क़ो बढ़यावया देिे के सयाथ-सयाथ खप् के

प्रन् कयारगर रुख रखिया जरूरी है। जहयां रयाजक़ोषती्

अिुशयासि के पथ पर अग्रसर ह़ोिे के प्रन् सरकयार की

प्रन्बधि्या ़्ो बरकरयार है, वहीं रयाजसव घयाटे क़ो कयाबू में

रखिे और सश्सडती क़ो ्क्थसंग् बियािे के प्रन् ककए जया

रहे प्र्यासों क़ो और बल देिया जरूरी है। जहयां ्क भयार्

के बयाह् क्ेत्र कया प्रशि है उससे अपेक्याकृ् अचिछी शसथन्

के संके् ममल रहे हैं। ्थयावप, मयात्रया की दृशष्ट से बया् करें

़्ो भयार् के ्ेल आ्या् में ्ेजती से वृवधि दज्थ हुई है, शजससे पण्वस्ु चिक्र के प्रत्याव््थि के ज़ोखखमों के प्रन्

सजग रहिया जरूरी ह़ो ग्या है।

चिूंकक 2016-17 कया मॉिसूि सयामयान् ह़ोिे कया

अिुमयाि ज्या्या ग्या है, अ्: कृवष क्ेत्र के मलए अिुकूल

ितीन्ग् उपया् जरूरी है ्याकक खयाद्-वस्ुओं के स््

मूल्ग् दबयावों और समग्र ग्रयामतीण ववपशत् क़ो दूर कक्या

जया सके। 2015-16 में कॉरप़ोरेट क्ेत्र में ववपशत् के कम ह़ोिे के आसयार द्दखयाई पड़े, लेककि निमि्र मयांग और कज्थ चिुकौ्ती की क्म्या में कमज़ोरी बरकरयार है।

जहयां ्क भयार् कया मयामलया है मौजूदया

अनिशशचि््याओं और ववशव के अन् देशों की गन्शतील्या

के बढ़्े प्रभयावों के मद्ेिजर सुशसथर देशती ितीन््ों और संरचिियातमक सुधयारों के पथ पर अग्रसर ह़ोिया बेहद जरूरी

ह़ो जया्या है।

वित्तीय संसराएं : सुदृढ़्ा ि लचतीलापन

अनुसूचच् िाखिष्यक बैंक – काय्थनन्पादन और जोखिम मुख् रूप से आशस् की गुणवत्या के और घटिे

्थया कम लयाभप्रद्या के कयारण द्दसंबर 2015 में प्रकयामश्

वपिली ववत्ती् शसथर्या ररप़ोट्थ (एफएसआर) के बयाद से

भयार् के बैंककंग क्ेत्र में ज़ोखखम बढ़ ग्या है। हयालयांकक मस्ंबर 2015 में अिुसूचचि् वयाखणश््क बैंकों (एससतीबती) के ऋण व जमयारयामश की संवृवधि दर में भयारी चगरयावट दज्थ हुई थती, कफर भती मस्ंबर 2015 से मयाचि्थ 2016 ्क की

अवचध में ज़ोखखम भयारर् आशस््ों की ्ुलिया में पूंजती

अिुपया् (सतीआरएआर) के समग्र स्र में वृवधि दज्थ हुई।

इस अवचध में ज़ोखखम-भयारर् आशस््ों (आरड्ल्ूए) के

घितव में चगरयावट आई।

मयाचि्थ 2016 में सकल अचग्रमों में सकल अिज्थक आशस््ों (जतीएिपतीए) के अिुपया् कया स्र ्ेजती से वृवधि

दज्थ कर्े हुए 7.6 प्रन्श् पर पहुंचि ग्या, जबकक मस्ंबर 2015 में ्ह 5.1 प्रन्श् थया, ज़ोकक म़ोटे ्ौर पर आशस् की गुणवत्या की समतीक्या (एक्ूआर) के बयाद एिपतीए के रूप में पुिससंरचचि् अचग्रमों के पुिवगगीकरण कया

संके् है। पररणयामसवरूप, समग्र दबयावग्रस् अचग्रमों के

मस्ंबर 2015 के 6.2 प्रन्श् की ्ुलिया में मयाचि्थ 2016 में चगरयावट दज्थ कर्े हुए 3.9 प्रन्श् पर पहुंचि जयािे के

कयारण समग्र दबयावग्रस् अचग्रम इसती अवचध में 11.3 प्रन्श् से मयामूली बढ़़ो्री दज्थ कर्े हुए 11.5 प्रन्श्

पर पहुंचि ग्या।

दबाि परीक्षि

अनुसूचच् िाखिष्यक बैंक

समशष्ट दबयाव परीक्णों से ्ह प्या चिलया कक बेसलयाइि पररदृश् में जतीएिपतीए अिुपया् मयाचि्थ 2016 के

7.6 प्रन्श् के स्र से बढ़कर मयाचि्थ 2017 में 8.5 प्रन्श् पर पहुंचि सक्या है। ्द्द भववष्् में समशष्ट शसथन् में और चगरयावट आए ़्ो जतीएिपतीए अिुपया् मयाचि्थ 2017 में 9.3 प्रन्श् ्क बढ़ सक्या है। ऐसे अत्ं्

दबयाव की दशया में अिुसूचचि् वयाखणश््क बैंकों कया प्रणयाली

स्री् अिुपया् मयाचि्थ 2016 के 13.2 प्रन्श् से घटकर मयाचि्थ 2017 में 11.5 प्रन्श् पर पहुंचि सक्या है।

(14)

2

शहरी सहकारी बैंक

जहयां ्क रया्् शहरी सहकयारी बैंकों के प्रणयाली

स्री् सतीआरएआरकया प्रशि है वह चिरम पररदृश् क़ो

ि़ोड़कर न्ूि्म ववनि्यामक अपेक्या से ऊपर बरकरयार रहया। ्थयावप, पृथक रूप से देखें ़्ो 52 रया्् शहरी

सहकयारी बैंकों में से 30 बैंक ऐसे हैं ज़ो चिरम पररदृश्

में अपेक्क्् सतीआरएआरस्रों क़ो प्रयाप् करिे में असमथ्थ रहेंगे।

गैर बैंककंग वित्तीय कंपननयां

गैर बैंककंग ववत्ती् कंपनि्ों के दबयाव परीक्ण से

्ह प्या चिलया कक प्रणयाली स्री् सतीआरएआरकेवल मयामूली ढंग से प्रभयावव् रहया और वह 15% के न्ूि्म ववनि्यामक स्र से कयाफी ऊपररहया। ्थयावप, जतीएिपती

के 3 मयािक ववचिलि से बढ़िे के चिरम पररदृश् में कुि

एिबतीएफसती कया सतीआरएआर न्ूि्म अपेक्क्् स्र से

कम ह़ो सक्या है।

वित्तीयक्षेत्र का विननयमन और बुननयादी संरचना

बैंककंग क्षेत्र का विननयमन

अं्ररयाष्ट्ी् शसथन् की बया् करें ़्ो बैंकों की

पूंजती और चिलनिचध कीशसथन् में सुधयार लयािे संबंधती उपया्ों

के प्रन् ध्याि द्दए जयािे क़ो ि़ोड़कर ितीन््ों कया उद्ेश्

जि्या में ववशवयास बढ़यािया और बैंककंग प्रणयाली की सुरक्या

अशसथर्या क़ो बियाए रखिया थया। इसके अं्ग्थ् पयारदमश्थ्या

और जवयाबदेही के मुद्ों क़ो अचधक महतव द्द्याग्या।

क्ोंकक भयार्ती् बैंक व््थमयाि में ्ुलि पत्र क़ो

चिुस्-दुरुस् करिे के प्रन् ध्याि केंद्रि् कर रहे हैं, अ्ः

सरकयार ववपशत्ग्रस्औद़्ोचगक क्ेत्रों से संबंचध् मुद्ों क़ो

दूर करिे के मलए अिेक उपया् कर रही है। ररजव्थ बैंक िे

भती बैंकों क़ो आचथ्थक ववकयास संबंधती मुद्ों की सम् रह्े

पहचियाि, व्वहया््थ आशस््ों की सम् रह्े पुिससंरचििया और अव्वहया््थ आशस््ों की वसूली ्या बबक्री करिे में समथ्थ बियािे के सयाथ सयाथ ऋणदया्याओं क़ो दबयावग्रस् आशस््ों

की द्दशया में कयार्थवयाई करिे में सशक् बियािे के मलए उपया् ककए हैं।

प्रन्भून् और पणय िस्ु डेररिेटटिि बाजार का विननयमन बड़ती संख्या में सूचितीबधि कंपनि्ों के शयाममल ह़ोिे

के कयारण भयार्ती् इशकवटी बयाजयार प्या्थप् रूप से ववकमस्

हुए हैं,कफर भती इशकवटी बयाजयार में गन्ववचध्यां कुिेक सटयाकों

्क ही संकेंद्रि् हैं और वह कुि संसथयाग् सहभयाचग्ों के

दबदबे में है। जहयां ्क कॉरप़ोरेट बॉणड बयाजयार कया संबंध है, निजती सथयािि के आधयार पर कज्थ प्रन्भून््ों के निग्थम के मलए सेबती दवयारया उपल्ध करयाए जयािे वयाले इलेकट्ॉनिक बही ्ंत्र से कया््थदक््या में सुधयार, मूल् डडसकवरी में

पयारदमश्थ्या के सयाथ-सयाथ ऐसे निग्थमों की लयाग् व सम्

में कटौ्ती की संभयावियाएं द्दख रही हैं।

ववनि्यामक संवेग से पण् वस्ु डेररवेद्टव बयाजयार में िए उतपयाद और िए वग्थ के सहभयागती आिे की संभयाविया

है शजससे चिलनिचध की बेह्र शसथन् और अपेक्याकृ्

अचधक कयारगयार मूल् डडसकवरी क़ो मू््थ रूप ममलेगया।

कृवष की पण् वस्ुओं के मलए एकीकृ् व समेकक्

रयाष्ट्ी् बयाजयार प्रदयाि करिे हे्ु सरकयार दवयारया रयाष्ट्ी्

कृवष बयाजयार (एिएएम) की सथयापिया के मलए की गई पहल से अं्नि्थद्ह् बयाजयारों क़ो कयारगर बियािे और एक समयाि

हयाशजर भयाव क़ो सयाकयार करिे में मदद ममलेगती।

बतीमा और पेंशन क्षेत्र

सुदृढ पुिबगीमया कया््थक्रम प्रयाथममक बतीमया कंपनि्ों

के ्ुलि-पत्रों क़ो अप्रत्यामश् हयानि्ों से सुरक्या प्रदयाि

करेगया और ज़ोखखम मूल्यांकि में सुधयार लयाएगया, ्थयावप, कुि पुिबगीमया संसथयाओं में आकशसमक दे््याओं के बढ़्े

संकेंरिण की दशया में पुिबगीमया कंपनि्ों की आघया्- सहिती््या कया मूल्यांकि करिया जरूरी है।

पेंशि क्ेत्र के ववनि्यामक दवयारया ज़ोखखम आधयारर्

प््थवेक्ण क़ो अपियािे हे्ु उठयाए गए कदम से प््थवेक्ती

संसयाधिों के कुशल आबंटि क़ो मू््थ रूप ममलिे की

संभयाविया है।

मूलयांकन

भयार्ती् ववत्ती् प्रणयाली शसथर रहया, भले ही

बैंककंग क्ेत्र के सयामिे कई महतवपूण्थ चिुिौन््यां हैं। वैशशवक अनिशशचि््याओं और पररव््थिशतील भू-रयाजितीन्क ज़ोखखम से भयार् पर असर पड़ रहया है, कफर भती सुदृढ देशती ितीन््यां

व संरचिियाग् सुधयार समशष्ट-आचथ्थक शसथर्या के मलए अहं

भूममकया निभया रहे हैं।

(15)

वैश्वक पृष्ठभूमि

1.1 कमज़ोर व ववषम संवृवधि, वैश्वक व्यापयार में मंदी

तथया ववततती् व पण् वसततु बयाजयारों में बरकरयार अनिश्चिततया

के कयारण वैश्वक आरथथिक सतुधयार संकट में है। अंतररयाष्ट्ी्

मतुद्या क़ोष (आईएमएफ) िे 2016 के लिए आकलित वैश्वक जतीडतीपती वृवधि दर1 क़ो पतुि: घटयाकर 3.2 प्रनतशत कर दद्या है (चियाटथि 1.1ए)। हयाियांकक 2016 की पहिी

नतमयाही के लिए ्ूऱो क्ेत्र में 0.6 प्रनतशत की वृवधि दर बयाजयार की प्रततीक्याओं क़ो पयार कर गई, कफर भती ववववध रयाजक़ोषती् पररशसथनत्ों और ितीनतगत प्रयाथलमकतयाओं की

शसथनत में एकि मौदद्क ितीनत की अंतनिथिदहत आंतररक ववषमतयाओं क़ो िेकर रचिंतया बरकरयार है। इसती प्रकयार जयापयाि

में पहिी नतमयाही में संवृवधि कया प्रदशथिि 0.5 प्रनतशत दजथि

करते हतुए अितुमयाि से अरधक रहया, कफर भती अपसफीनत- जन् दबयावों के बढ़िे से औद़्ोरगक गनतववरध में सतुसतती

कया्म है। चितीि में मंदी (भिे ही 2016 की पहिी नतमयाही

में मयामूिी सतुधयार दजथि हतुआ है) और आरथथिक शसथनत में

भयारी रगरयावट वैश्वक संवृवधि की संभयावियाओं पर कयाफी

असर कर रही है, जबकक ततुिियातमक रूप से भयारत की

सतुदृढ संवृवधि आव््क समथथिि प्रदयाि कर रही है।्ूएस में

2016 की पहिी नतमयाही में द़ोबयारया रगरयावट दजथि ह़ोिया

संभवत: इस बयात कया संकेत है कक तेजती व दटकयाऊ सतुधयार

वैश्वक संवृवधि की संभयावियाएं मंद पडती हैं। कतुछ क्ेत्रयारधकयारों में अपयारंपररक ितीनतगत उपया्ों व ऋणयातमक ब्याज दरों के मेि के कयारण ववततती् शसथरतया ज़ोखिमों के अवयांनछत पररणयाम ह़ो सकते हैं, वहीं उससे संवृवधि क़ो ततुिियातमक रूप से बढ़यावया िहीं लमि रहया है। ऐसती शसथनत में उभरतती बयाजयार अथथिव्वसथयाएं (ईएमई) उनित अथथिव्वसथयाओं में

ह़ोिे वयािे ितीनतगत बदियावों व ज़ोखिम रूपों के प्रभयावों से बचि िहीं सकततीं, इसलिए बडे पैमयािे पर समशष्ट-ितीनतगत सतकथितया बरतिया जरूरी ह़ो ग्या है।

जहयां तक भयारत कया सवयाि है वह कयाफी व्यापयार-जन् ियाभों की वजह से वतथिमयाि दौर में आगे है, कफर भती

भववष्् में वैश्वक पण्-वसततु कीमतों के रुि के बदििे क़ो ध्याि में रििया जरूरी है। ऐसया प्रततीत ह़ो रहया है कक अत्रधक क्मतया और कॉरप़ोरेट ववपशतत के चििते निजती निवेश प्रभयाववत ह़ो रहया है। िगयातयार द़ो वषथि सूिया पडिे के

कयारण कृवष क्ेत्र के प्रनत ववशेष ध्याि दद्या जयािया जरूरी है, क्ोंकक इसके कयारण बृहत् रयाजितीनतक अथथिव्वसथया के

प्रभयाववत ह़ोिे के अियावया जतीववकया और मतुद्यासफीनत पर भती असर पडतया है। हयाियांकक इस वषथि सयामयान् मॉिसूि ह़ोिे

कया अितुमयाि जतया्या ग्या है, कफर भती अंनतम प्रभयाव सथयानिक व सयामन्क संववतरण पर निभथिर करेगया।

कॉरप़ोरेट क्ेत्र में ववपशतत 2009-10 से उचचि सतर पर है, 2015-16 में उसमें रगरयावट आिे के कतुछ संकेत ददियाई पडे। इसकया असर बेहतर ियाभप्रदतया के रूप में ददियाई दद्या, िेककि कॉरप़ोरेट िीवरेज के सतर रचिंतयाजिक है।

1आईएमएफ (2016) वरडथि इक़ोिॉलमक आउटितुक, अप्रैि

चार्ट 1.1 : वैश्वक संवृद्धि का परिदृ््य औि ्यूएस के मिए सिशषर संकेतक

नोर : देश-ववशेष आधयार वषषों कया प्ऱ्ोग करते हतुए जतीडतीपती (शसथर मूर्) में वयावषथिक प्रनतशत वषथि-दर-वषथि पररवतथििों कयाआईएमएफ सूचिकयांक; एसए कया तयातप्थि मौसम के

अितुसयार समया़्ोशजत संख्याओं से है।

स्ोत : बिूमबगथि

0.0 1.0 2.0 3.0 4.0 5.0 6.0 7.0 8.0 9.0

2013 2015 2016 2017 2018 2019 2020

Percent

World GDP Advanced economies GDP

Emerging market economies India GDP China GDP a. Outlook for global economic growth

b. Select macro indicators for the US

-1 0 1 2 3 4 5 6 7 8 9

Jun-13 Sep-13 Dec-13 Mar-14 Jun-14 Sep-14 Dec-14 Mar-15 Jun-15 Sep-15 Dec-15 Mar-16

Percent

GDP(Y-o-Y) CPI (Y-o-Y) Unemployment rate (SA)

प्रनतशतप्रनतशत ूि-13 लसतं-13 ददसं-13 मयाचिथि-14 ूि-14 लसतं-14 ददसं-14 मयाचिथि-15 ूि-15 लसतं-15 ददसं-15 मयाचिथि-16

अध्या्य I

सिशषर-द्वततती्य जोखिि

क. वैश्वक आर््टक संवृद्धि का परिदृ््य

वैश्वक जतीडतीपती

उभरतती बयाजयार अथथिव्वसथयाएं भयारत कया जतीडतीपती चितीि कया

जतीडतीपती

उनित अथथिव्वसथयाओं कया जतीडतीपती

ि. ्यूएस के मिए च्यननत सिशषर संकेतक

जतीडतीपती (व-द-व) सतीपतीआई (व-द-व) बेऱोजगयार की दर (एसए)

(16)

क़ो हयालसि करिे में और सम् िगिे वयािया है

(चियाटथि 1.1बती)।

1.2 कतुछ उभरतती बयाजयार अथथिव्वसथयाओं में समशष्ट- आरथथिक शसथरतया की बहयािी और पण् वसततुओं के मूर्ों

में शसथरतया के कतुछ संकेत ददियाई त़ो दे रहे हैं, िेककि

भू-रयाजितीनतक पररशसथनत क़ो िेकर रहिे वयािी अनिश्चिततया

के कयािे बयादि निवेश के रुि पर मंडरया रहे हैं। स़ोिे के

बढ़े हतुए मूर् मौजूदया पररशसथनत में सतुरक्या की ओर संकेत कर रहे हैं और ्ूएस डॉिर फेड के भयावती मौददक ितीनतगत निणथि्ों की प्रत्याशयाओं में पररवतथििों क़ो दशयाथि रहया है (चियाटथि

1.2)। इस बतीचि ्ूएस फेड दवयारया ब्याज दरों में की जयािे

वयािी बढ़़ोतरी क़ो िेकर अनिश्चिततया बरकरयार है

(चियाटथि 1.3)।

1.3 बहरहयाि, ्ह बतया पयािया कयाफी मतुश्कि ह़ो रहया है

कक उनित अथथिव्वसथयाओं में ितीनत-निमयाथितया मौजूदया अनत- सतुिभ मौदद्क ितीनत क़ो कब तक जयारी रिेंगे। ककसती

सपष्ट निकयास कया्थिितीनत के अभयाव में ‘इशज़ंग बबगेटस इशज़ंग’ और ‘प्रनतसपधयाथितमक सतुिभतया’ (टे्िर, 2013 2015; और रयाजि, 2014)2 वयािी शसथनत पैदया ह़ो सकतती

है। लमसयाि के तौर पर, ्ूऱो और जयापयािती ्ि में मूर्वृवधि

एक अिलभप्रेत पररणयाम है। ्ह इस संकरपिया क़ो रेियांककत कर रहया है कक अरपयावरधक रयाजक़ोषती् व मौदद्क उपया्

2रयाजि, आर. (2014); ‘प्रनतसपधयाथितमक मौदद्क सतुिभतया : क्या कि इसकया द़ोहरयाव हतुआ?’ 10 अप्रैि: टे्िर, जे. (2013); ‘अंतररयाष्ट्ी् मौदद्क समनव् और अत्रधक ववचििि’, जिथिि ऑफ पॉलिसती मॉडलिंग, िंड 35, सं.3 और (2015);‘अंतररयाष्ट्ी् मौदद्क प्रणयािी पर पतुिववथिचियार’, मौदद्क ितीनत कया पतुिववथिचियार पर कैट़ो इंशसटट्ूट मौदद्क सममेिि

चार्ट 1.2 : सोने औि ब्रेंर कचचा तेि की कीितों की

प्रवृशतत, पण्यवसततु औि ्यूएसडती सूचकांक

स्ोत : बिूमबगथि (15 जूि 2016 तक के आंकडे)

दीघयाथिवरधक संरचिियातमक सतुधयारों व निवेश कया सथयाि िहीं

िे सकते।

1.4 पृथक रूप से देिें त़ो कतुछ ितीनतगत उपया्ों कया

ववततती् व आरथथिक शसथरतया पर सकयारयातमक प्रभयाव रहया है,

िेककि उिके अिलभप्रेत प्रनतकूि प्रभयाव जयादहर ह़ो रहे हैं।

लमसयाि के तौर पर, केंद्ी् बैंकों दवयारया आशसत की िरीद ककए जयािे से ऐसया प्रततीत ह़ोतया है कक उचचि गतुणवततया वयािे

पेपर के बयाजयार दबदबे में आ गए। इसके अियावया, बहतुत ही

कम ब्याज दरें (कतुछ मयामिों में ऋणयातमक) संभवत: पेंशि

चार्ट 1.3 : फेड ब्याज दिों की अंतनन्टहित प्रान्यकता की ऐनतिामसक प्रवृशतत#

नोर : अंतनिथिदहत प्रयान्कतया मूर् ब्याज दरों के दया्रों से संबंरधत है ज़ो कक प्रनतशत में है – िेजेंड्थयानिददेलशत स्ोत : बिूमबगथि

मयाचिथि-15

जूि-15 लसतं-15 ददसं-15 मयाचिथि-16

जूि-16

लसतं-15 अकतू-15 िवं-15 ददसं-15 जि-16 फर-16 मयाचिथि-16 अप्रै-16 मई-16 जूि-16 लसतं-15 अकतू-15 िवं-15 ददसं-15 जि-16 फर-16 मयाचिथि-16 अप्रै-16 मई-16 जूि-16

्ूएसड

ती सूचिकयांकूर् औरूएस में स़ोिे की कीमतूएस डॉिरें पण्वस

ततु सूचि

कयांक

मूर्

और ब्ेंट कचचिया तेि की कीमतूएस डॉिरें

्ूएस डॉिर सूचिकयांक

स़ोिया ्ूएस डॉिर हयाशज़र (्ूएस डॉिर प्रनत टॉई अउंस) ब्ेंट कचचिया तेि की कीमत प्रनत बैरि ्ूएस डॉिर में

पण्वसततु सूचिकयांक (दया्यां मयाि)

क. फेड बै्ठक – 27 जतुिाई 2016 ि. फेड बै्ठक – 21 मसतंबि 2016

प्रयान्कतया प्रयान्कतया

References

Related documents

Compliant, PCIE 2.0 Compliant, WOL Support, Microsoft® Logo certifications, USB 2.0 Support or higher Power supply Minimum 1100W, redundant hot swappable/Pluggable power..

Figure 1 African value added in third countries’ exports, 2015 12 Figure 2 Climate change impacts on crop yields, accounting for CO 2 fertilisation 14 Figure 3 Global CO 2

affinis T.albacares

This order should be circulated among all staff members and copy of this order may be displayed on Notice

Subject TSTSL invites bids for – Treasury and Accounts Department, Telangana - Identification of Agency/firm for Providing Annual Maintenance Services of Computer hardware

Apart from working with Design Innovation Centre (DIC) under the University of Delhi, and National Small Industries Corporation (NSIC); we are at different stages of

National Thermal Power Station, (NTPC – Dadri), National Capital Power Station, P.O.: Vidyut Nagar, Distt: Gautam Budh Nagar – 201 008 (U.P). 1 2 1

Hydrazone having the substituents H, 4-Br, 2-OH and 4-CH 3 showed satisfactory antibacterial activity against E.. coli antimicrobial